propeller

Sunday, 28 August 2016

मक्का इस्लाम का पवित्रतम शहर

मक्का (शहर)

 इस्लाम का पवित्रतम शहर है जहाँ पर काबा तीर्थ और मस्जिद-अल-हरम (पवित्र या विशाल मस्जिद) स्थित है। मक्का शहर वार्षिक हज तीर्थयात्रा, जो इस्लाम के पाँच स्तंभों में से एक है के लिये प्रसिद्ध है। हर साल करीब 40 लाख हजयात्री मक्का आते हैं।
इस्लामी परंपरा के अनुसार मक्का की शुरुआत इश्माइल वंश ने की थी। 7 वीं शताब्दी में, इस्लामी पैगम्बर मुहम्मद ने शहर में जो तब तक, एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केन्द्र था मे इस्लाम की घोषणा की और इस शहर ने इस्लाम के प्रारंभिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सन 966 से लेकर 1924 तक, मक्का शहर का नेतृत्व स्थानीय शरीफ द्वारा किया जाता था। 1924 मे यह सउदी अरब के शासन के अधीन आ गया। आधुनिक काल में, मक्का शहर के आकार और बुनियादी संरचना में एक महान विस्तार देखा गया है।
आधुनिक मक्का शहर सउदी अरब के मक्काह प्रांत की राजधानी है और, ऐतिहासिक हेजाज़ क्षेत्र में स्थित है। शहर की आबादी 1700000 (2008) के करीब है और यह जेद्दा से 73 किमी (45 मील) की दूरी पर एक संकरी घाटी में समुद्र तल से 277 मीटर (910 फीट) की ऊँचाई पर स्थित है।
अरबी के मूल अंग्रेजी लिप्यंतरण और अंग्रेजी शब्दकोशों में "मक्का" शब्द अत्यधिक इस्तेमाल किया जाता है, उनकी अंग्रेजी भाषा और साहित्य और अकादमिक लेखन में अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा। मक्का शहर के लिए प्राचीनतम नाम बक्काह (भी बाका, बाकाह्, बेक्का, आदि) क उपयोग किया जाता था। अरबी भाषा शब्द, इसकी व्युत्पत्ति की तरह है कि मक्का के अस्पष्ट है। व्यापक रूप से मक्का के लिए एक पर्याय माना जा रहा है, उसमें स्थित घाटी के लिए और अधिक विशेष रूप से जल्दी नाम कहा जाता है, जबकि मुस्लिम विद्वानों आम तौर पर यह उपयोग करने के लिए है कि शहर के पवित्र क्षेत्र में उल्लेख तुरंत चारों ओर से घेरे और Kaaba शामिल हैं।
औपचारिक शिक्षा तुर्क के अवधि में धीरे-धीरे विकसित होना शुरू हुआ था। इसमें सबसे बड़ा प्रयास जेद्दा के व्यापारी मुहम्मद अलि ज़ायनल रीदा द्वारा हुआ। वह मक्का में मदरसत अल-फलाह की 1911-12 में स्थापना की। इसके लिए कुल खर्च £400,000 ( ₹40,25,02,315 रुपये ) आए थे।
विद्यालय प्रणाली में मक्का में कई निजी और सार्वजनिक विद्यालय हैं, जो लड़कों और लड़कियों दोनों के लिए है। 2005 के अनुसार यहाँ कुल 532 निजी और सार्वजनिक विद्यालय लड़कों के लिए और अन्य 681 निजी और सार्वजनिक विद्यालय लड़कियों के लिए है। इसमें शिक्षा का माध्यम अरबी होता है और दूसरे भाषा के रूप में अंग्रेज़ी की शिक्षा दी जाती है। लेकिन कुछ विदेशी लोगों द्वारा बनाए गए विद्यालय में केवल अंग्रेज़ी को ही शिक्षा माध्यम के रूप में पढ़ाया जाता है। और यह लड़कों और लड़कियों को एक साथ बिठाते हैं, जबकि अन्य ऐसा नहीं करते हैं।
इसमें उच्च शिक्षा के लिए एक ही विश्वविद्यालय है, उम्म अल-क़ुरा विश्वविद्यालय, जिसे वर्ष 1949 में एक महाविद्यालय के रूप में बनाया गया था और 1979 में इसे विश्वविद्यालय बना दिया गया।

नेपाल में स्वाइन फ्लू ने की एंट्री !

भारत से सटे नेपाल के जिलों में स्वाइन फ्लू ने अपना प्रकोप फैकना शुरू कर दिया है ! पोखरा , पाल्पा जिलों में स्वयंव फ्लू तेज़ी से फ़ैल रहा...