propeller

Sunday, 12 June 2016

यूपी पुलिस की गुंडागर्दी रोजेदार को पीट-पीट कर किया बेहोश, पेशाब पिलाने की कोशिश

यूपी पुलिस की गुंडागर्दी रोजेदार को पीट-पीट कर किया बेहोश, पेशाब पिलाने की कोशिश!!!!!!!!!! गोरखपुर

गोरखपुर। मुस्लिमों की हमदर्द कहलाने वाली समाजवादी पार्टी सरकार में गोरखपुर में एक थानेदार ने एक रोजेदार पर ऐसा जुल्म ढाया कि सुनकर कोई भी सिहर जाएगा। सूदखोरों के दवाब में आकर पुलिस ने परवेज आलम को घर से उठा लिया और उसे इतना पीटा कि वह बेहोश हो गया। जब परवेज ने रोजे में होने की बात कही और पानी मांगा, तो थानेदार ने उसे पेशाब पिलाने तक की धमकी दे डाली।

मामला गोरखपुर के गगहा थाने से जुड़ा हुआ है, जहां पैसे की लेनदेन में कर्जदार परवेज आलम निवासी ग्राम गजपुर थाना गगहा को थानेदार ने महज इसलिए मारा-पीटा क्योंकि इलाके के सूदखोरों से उसने कुछ पैसा सूद पर लिया था और उनसे ब्याज की रकम को लेकर विवाद हो गया था।
सूदखोरों के कहने पर सात जून को गगहा थाने के गजपुर चौकी के प्रभारी व सिपाहियों ने परवेज को जम कर मारा-पीटा। इतना ही नहीं, चौकी प्रभारी आरएन दुबे व सिपाहियों ने उसे पानी मांगने पर पेशाब पिलाने की धमकी दे डाली। इस मामले को लेकर आज गोरखपुर के डीआईजी शिव सागर सिंह से मुसलमानों के एक समूह ने मुलाक़ात की और चौकी प्रभारी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की मांग की।
इस घटना की जानकारी होने पर सपा के वरिष्ठ नेता जफ़र अमीन डक्कू भी पीड़ितों के साथ डीआईजी से मिले और पीड़ित को न्याय दिलाने की मांग की। इस सम्बन्ध में डीआईजी शिव सागर सिंह ने बताया कि मामले को गंभीरता से लिया जाएगा और जांच कराकर जो भी लोग दोषी पाए जाएंगे, उनपर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

वॉरेन बफे शेयर बाजार का जादूगर

वॉरेन बफे शेयर बाजार का जादूगर!!!!!!

आप अगर उन चीजों को खरीदते हैं, जिनकी आपको बिलकुल जरूरत नहीं है, तो शीघ्र ही आपको उन चीजों को बेचना पड़ेगा जिनकी आपको सबसे जादा जरूरत है.
वॉरेन बफे का नाम आज दुनिया मैं सबको पता हैं, ये नाम किसी परिचय का मोहताज नहीं, दुनीया इनको वॉरेन बफे के नाम से कम और शेयर बाजार का खिलाडी, वॉल स्ट्रीट का जादूगर और बर्क़शायर हैथवे (Berkshire Hathaway) का बादशहा इस नाम से ज्यादा जानती है, दुनीया मैं ऐसा कोई भी अखबार, टी. वी. चैनेल नहीं होगा जिसमे वॉरेन बफे की चर्चा नहीं होती होंगी.
2008 तक, अनुमानतः 62 अरब U.S डॉलर  की कुल संपत्ति (Net Worth) के कारण फ़ोर्ब्स (Forbes) द्वारा उन्हें दुनिया का सबसे अमीर आदमी (Richest person in the world) आंका गया था।
बल्कि दुनिया मैं वो अरबपति होने के वजह से इतने ज्यादा चर्चा मैं नहीं रहे, जितनेकी, अरबपति होने के बावजूद उनकी जो जीवन शेली हैं उसकी वजह से वो चर्चा मैं रहे, बफे दुनिया के उन सभी अमीरों से हर मायने मैं अलग हैं, कारोबार की पूरी तरह से समाज रखने वाले बफे मैं कई खूबिया हैं जो उनके नाम को एक अलग पहचान देती हैं.
सबसे बड़ी बात ये हैं की बफे ने अपनी कुल संपति का लगभग 85% हिस्सा Bill Gates की Bill & Melinda Gates Foundation को दान मैं देकर इतिहास रच दिया ओर दुनिया का सबसे बड़े दानशुर बन गए….
बफे के पिता शेयर बाजार मैं कारोबारी थे, बफे ने 11 साल की उम्र मैं अपने पिता के साथ शेयर बाजार मैं अपने कारोबारी जीवन की शुरवात की, बफेट नें 13 साल की उम्र मैं अपना पहला आयकर विवरण दायर किया और अपनी साईकिल के ३५ डालर को एक व्यय के रूप में घाटा दिया.
15 साल की उम्र मैं High School अंतिम वर्ष में बफेट और उनके एक साथी नें 25 डालर में एक इस्तेमाल की हुई पिनबाल मशीन खरीदी और उसे एक नाइ की दुकान में रख दिया. मात्र कुछ महीनों में उनके पास तीन मशीनें भिन्न भिन्न जगहों पर हो गई थीं।
20 साल उम्र मैं बफेट नें हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में प्रवेश के लिए आवेदन किया था, लेकिन उसे ठुकरा दिया गया था। फिरWarren Buffett  नें कोलंबिया बिजनेस स्कूल (Columbia Business School) में दाखिला लिया क्योंकि उन्हें पता था की बेंजामिन ग्राहम (Benjamin Graham) और डेविड डोड (David Dodd), दो जाने-माने प्रतिभूति विश्लेषक (securities analyst), वहीं पढ़ते हैं। उन्ही गुरु से बफेट नें शेयर बाजार मैं निवेश करने के गुण सिखे.
आज बफेट के पास जीतनी संपति हैं उनकी जीवन शैली उतनी ही सरल हैं, बफेट आज भी उसी घर मैं रहते हैं जो उन्होंने 5 दशक पहले ख़रीदा था, वे अपनी कार खुद चलते हैं, ना तो उनके पास कोई ड्राईवर हैं, ना कोई सुरक्षा गार्ड, वे कभी निजी विमान से यात्रा नहीं करते, वो अपने सभी CEO को साल मैं केवल एक बार पात्र लिखते हैं..
दोस्तों, वॉरेन बफेट की शक्सीयत को समजना या उनके बारे मैं कोई भी एक राय बना पाना शेयर बाजार की तरह ही पेचीदा हैं.
वॉरेन बफेट के कुछ बेहतरीन टिप्स :-
1 “कमाई : कभी भी अकेली आय पर निर्भर न रहे. आय का दूसरा साधन बनाने के लिये निवेश करे.”
2 “सफलता : जब मौके आते है तभी आप कोई काम करते हो. मेरे जीवन में एक ऐसा पल भी आया था जब मेरे पास उपायों का गठरा पड़ा था. लेकिन यदि मुझे अगले हफ्ते कोई उपाय आता है तो ही मै कुछ कर पाउँगा अन्यथा मै कुछ नही कर पाउँगा.”
3 “खर्च : यदि आपको जिसकी जरुरत नही है वो चीज़े आप खरीद रहे हो तो एक दिन आपको जिन चीजो की जरुरत है उस चीजो को बेचना पड़ेगा.”
4 “सेविंग : खर्च करने के बाद जो बचे उसे सेव न करे लेकिन सेव करने के बाद जो बचा उसे खर्च अवश्य करे.”
5 “जोखिम : कभी भी नदी की गहराई को दो पैरो से नही नापना चाहिये.”
6 “निवेश : कभी भी अपने सारे अन्डो को एक ही बास्केट में न डाले.”
7 “उम्मीद : इमानदारी सबसे महंगा तोहफा है. छोटे लोगो से इसकी उम्मीद ना करे.”
8 “इंसानियत : यदि आप इंसानियत के 1 % लकी लोगो में भी शामिल हो, तो आप 99 % लोगो को इंसानियत सिखा सकते हो.”

नेपाल में स्वाइन फ्लू ने की एंट्री !

भारत से सटे नेपाल के जिलों में स्वाइन फ्लू ने अपना प्रकोप फैकना शुरू कर दिया है ! पोखरा , पाल्पा जिलों में स्वयंव फ्लू तेज़ी से फ़ैल रहा...