Add

Tuesday, 31 May 2016

सबसे बड़े मेट्रो प्रोजेक्ट में खर्च होंगे 67,440 करोड़ रुपए --सऊदी अरब

 सबसे बड़े मेट्रो प्रोजेक्ट में खर्च होंगे 67,440 करोड़ रुपए --सऊदी अरब -रियाद। सऊदी अरब देश की राजधानी रियाद में साल 2018 के अंत तक दुनिया का सबसे बड़ा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम शुरू हो जाएगा। फिलहाल मेट्रो ट्रैक के निर्माण का काम चल रहा है। रियाद की आबादी 60 लाख से ज्यादा है, लेकिन यहां अभी कोई पब्लिक ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था नहीं है।
नए पब्‍िलक ट्रांसपोर्ट सिस्‍टम के तहत रियाद में छह मेट्रो लाइनें बनाई जा रही हैं, जो 85 मेट्रो स्टेशनों को जोड़ेंगी। मेट्रो लाइनें 177 किलोमीटर ट्रैक में फैली होंगी। सऊदी ने साल 2012 में अनुमान लगाया था कि वर्ष 2035 तक रियाद की आबादी 50 फीसद तक बढ़ जाएगी। इसके बाद पब्लिक ट्रांसपोर्ट के लिए इस प्रोजेक्ट को मंजूरी दी थी
                                
इसके निर्माण के लिए सऊदी सरकार ने दुनियाभर की इंजीनियरिंग कंपनियों के साथ कांट्रैक्ट किए हैं। इसके तहत 67,440 करोड़ रुपए का सबसे बड़ा टेंडर अमेरिका की इंजीनियरिंग, फर्म बेचटेल को दिया गया है। बेचटेल कंपनी को विशाल प्रोजेक्ट्स करने में महारथ हासिल है।
यह ब्रिटेन की चैनल टनल, बे-एरिया के बीएआरटी सिस्टम और एथेंस के मैट्रो प्रोजेक्ट के कंस्ट्रक्शन के लिए जानी जाती है। कंपनी इस प्रोजेक्ट के तहत सेंट्रल रियाद में जमीन के अंदर टनल वाला 64 किमी लंबा ट्रैक बना रही है। इसमें 39 स्टेशन होंगे।
सुरंग खोदने के लिए कंपनी 1,000 टन वजनी ‘नीफा’ नाम की शक्तिशाली बोरिंग मशीनों का इस्तेमाल कर रही है। यह मशीन एक हफ्ते में 325 फुट सुरंग खोदने के साथ कंक्रीट पैनल बिछा सकती है।

Monday, 30 May 2016

Al Faisaliyah tower Center RIYADH

        

Al Faisaliyah Tower Center RIYADH

  The four corner beams of the Al Faisaliah Complex join at the top above a golden ball.                           Immediately below the ball is an outside viewing deck; at ground level, there is a shopping center         with major world brands. The design is said[who?] to be based on that of a ballpoint pen. Inside the        golden ball is a luxurious restaurant. There is a clear view of Saudi Arabia's other skyscraper, the        Kingdom Centre, from the Al Faisaliah Center and the two buildings create a silhouetted skyline in           the evening. The tower was designed by UK-based architects Foster and Partners and                   engineers Buro Happold. It is part of an Al Faisaliah Complex, which consists of a hotel, the tower, and  two other buildings. The tower features several restaurants like 11a and the Globe and also has a   cigar lounge at the top floor.

Mamluka Tower (or Kingdom Tower, or Kingdom Centre), is Riyadh’s tallest building

 Mamluka Tower (or Kingdom Tower, or Kingdom Centre), is Riyadh’s tallest buildingThe Kingdom Tower won the prize for the world’s best skyscraper of the year 2003, awarded by the World Skyscrapers Commission, out of 350 buildings worldwide that were competing for the title.

This tower rises over 300m and has a gross built-up area of 185,000 sqm. plus 115,000 sqm. of parking space for up to 3,000 cars.Kingdom Tower askew

Mamluka Tower (or Kingdom Tower, or Kingdom Centre), is Riyadh’s tallest building and, together with the Faisaliya Tower, is part of the duo that characterizes the Saudi capital. It was completed in 2002 and belongs to Prince Waleed bin Talal, the owner of the Four Seasons group of hotels (of which there is one in the tower) and a partial owner of Fox News, as well as the Rotana Group of companies. The Kingdom Tower is notable for the fact that it looks like a bottle-opener, although this comparison is often discouraged by those who see it as a sign of the city’s modernity. The Four Seasons, which is in the tower complex, contains a health club, various restaurants and, of course, all the accoutrements of a five-star hotel (minus the alcohol). The three ground floors of the tower itself are a shopping complex with more upscale stores than the Faisaliya Tower, including a Saks Fifth Avenue. The third floor is women-only, a novelty for Saudi Arabia, albeit one that is hardly a blow for women’s rights. The rest of the tower is office space, except for the bridge or skywalk at the top of the tower, which is an observation platform that provides viewers a panorama of the city. The best time to come up here is at night, when the dust is not quite as evident. The elevator up to the 99th floor is the real draw, although you are required to suppress your laughter when told that it is the fastest elevator in the world.

Sunday, 29 May 2016

चीन ने दिखाया अपना रंग,अपने नागरिकों को कहा: “बंद करो इस्लाम को मानना”

चीन ने दिखाया अपना रंग,अपने नागरिकों को कहा: “बंद करो इस्लाम को मानना”

चीन के तानाशाही भरे माहौल के साये में जी रहे देश के लोगों के बीच जहाँ मूसलमानों की गिनती बेतहाशा रफ़्तार से बढ़ रही है और ज़्यादा से ज़्यादा लोग इस्लाम को ही सच्चा राह मान कर इसको कबूल करते जा रहे हैं वहीँ देश की प्रेजिडेंट ज़ी जिनपिंग की प्रतिनिधित्व वाली सरकार ने इस्लाम की बढ़ती मान्यता पर लगाम लगाने के लिए एक बयान जारी किया है।
खबर के मुताबिक चीन की सरकार ने चीन के नागरिकों ख़ास तौर पर वो जी शिनजियांग इलाके में रह रहे हैं को चेतावनी दी है कि वो इस्लाम को छोड़ “मार्क्सवादी नास्तिक” सोच का पालन करें जोकि चीन के सत्ताधारियों की सोच है। सरकार के ऐसे फरमान के बाद चीन में रहने वाले मुस्लिम समुदाय के लोगों में गुस्सा उमड़ रहा है क्यूंकि उनसे उनकी मजहब चुनने की आज़ादी छीनी जा रही है। ऐसा पहली बार नहीं है की चीन किसी धर्म समुदाय के लोगों के विरोध में खड़ा हुआ हो। इससे पहले भी चीन टिब्बेत पर कब्ज़ा कर वहां के बौद्ध धर्म के अनुयाइयों पर अत्याचार करता आ रहा है।

Wednesday, 25 May 2016

مسلمانوں کی سیاسی و مسلکی بنیاد پر تقسیم کا عمل شروع

       ا۔   مسلمانوں کی سیاسی و مسلکی بنیاد پر تقسیم کا عمل شروع 

۔2014 ء عام انتخابات کا فارمولہ مہاراشٹرا کے بعد آسام میں کامیاب، اگلا نشانہ یو پی
حیدرآباد۔23مئی(سیاست نیوز) بھارتیہ جنتا پارٹی نے مہاراشٹرا اور آسام میں سیکولر ووٹ کی تقسیم کے تجربہ کی بنیاد پر یہ دعوی کرنا شروع کر دیا ہے کہ اتر پردیش میں بھی بی جے پی اقتدار حاصل کرے گی۔ اتر پردیش میں جو صورتحال پیدا ہو رہی ہے اسے دیکھتے ہوئے یہ کہا جا سکتا ہے کہ کون کس کے لئے کام کر رہا ہے اور کونسی طاقتیں کس جماعت کو مستحکم کرنے کی کوشش میں مصروف ہیں۔ بی جے پی نہ صرف سیکولر ووٹ منقسم کرنے میں مصروف ہے بلکہ مسلم ووٹ کو مختلف بنیادوں پر تقسیم کرنے کی منصوبہ سازی کرچکی ہے اور اس منصوبہ سازی میں بھارتیہ جنتا پارٹی کو کن گوشوں کی مدد حاصل ہے یہ بات بھی عیاں ہوچکی ہے لیکن بہار میں بھارتیہ جنتا پارٹی اور درپردہ حلیف جماعت کو حاصل ہوئی ذلت آمیز شکست کے بعد حکمت عملی میں معمولی تبدیلی کے ذریعہ نہ صرف سیاسی طور پر سیکولر ووٹ تقسیم کرنے کی کوشش کی جا رہی ہے بلکہ مسلمانوں کو مسلک کے خانوں میں تقسیم کرتے ہوئے اس کا سیاسی فائدہ حاصل کرنے کی کوششیں بھی عروج پر ہیں۔ بہار میں جو صورتحال پیدا ہوئی تھی اس وقت بہار کے عوام نے اپنے سیاسی شعور کا ثبوت دیا تھااور یہ صورتحال نے مغربی بنگال ‘ آسام ‘ تمل ناڈو میں سیاسی سازشوں میں ملوث افراد کے خوابوں کو چکناچور کردیا جبکہ مغربی بنگال میںمسلمانوں کی پسماندگی دور کرنے کا خواب سجائے
یہ اعلان نام نہاد مسلم ہمدردوں کی جانب سے 2009سے کیا جا رہا تھا کہ ہم مغربی بنگال میں مسلمانوں کی آواز بنیں گے لیکن 2011میں بھی بنگال یاد نہیں آیا اور نہ ہی اب جبکہ مہاراشٹرا اور بہار کا تجربہ ہوچکا تھا اس کے باوجود 2016میں بھی بہار کے مسلمانوں کی پسماندگی یاد نہیں آئی اس کی وجوہات کا بہ آسانی اندازہ کیا جاسکتا ہے لیکن اب اتر پردیش میں بھارتیہ جنتا پارٹی کیجانب سے کامیابی کے دعوؤں سے ایسا لگتا ہے کہ بھارتیہ جنتا پارٹی نے آسام کے طرز پر درپردہ حلیف تیر کر لیا ہے جو اتر پردیش میں نہ صرف سیاسی طور پر مسلمانوں کو منقسم کرنے میں اہم کردار ادا کرے گا بلکہ ایسے گوشے بھی تیار کر لئے گئے ہیں جو مسلک کی بنیادوں پر مسلم ووٹ کو منقسم کرنے میں کلیدی کردار ادا کریں گے۔ بی جے پی کی سازشی ذہنیت کس طرح سے ملک کی سیاست پر اثر انداز ہو رہی ہے اس کا جائزہ لیا جائے تو یہ بات سامنے آئے گی کہ فرقہ پرستوں کو مستحکم بنانے کیلئے فرقہ پرست ہی مددگار ثابت ہو رہے ہیں۔ اتنا ہی نہیں بلکہ دو طرفہ فرقہ پرستی کو ہوا دیتے ہوئے مذہب کے نام پر عوام کو تقسیم کرنے کا کام جو لیا جا رہا ہے وہ سب پر عیاں ہے کہ کون مہاراشٹرا میں مدد گار ثابت ہوا اور کسے بہار میں خفت اٹھانی پڑی ۔ آسام میں بھائی کے بھروسہ مداخلت نہ کرنے والوں کے تعلقات صدر بی جے پی سے کس حد تک بہتر ہے یہ آسام کے علاوہ یہاں کے بھائی بھی جانتے ہیں ۔ بھارتیہ جنتا پارٹی کے منصوبہ ساز گروہ نے جو ناگپور سے کام کرتا ہے اس بات پر حیرت زدہ تھا کہ مہاراشٹرا میں کامیاب ہوئی حکمت عملی بہار میں کیوں ناکام ہوئی اور وہی حکمت عملی آسام میں کیسے کامیاب ہو گئی؟

اس مسئلہ پر اس گروہ نے جائزہ اجلاس منعقد کرنے کے بعد اتر پردیش میں کامیابی کے دعوے کرنے شروع کر دیئے ہیں۔ باوثوق ذرائع سے موصولہ اطلاعات کے بموجب مہاراشٹرا اور بہار میں صرف سیکولر ووٹ کی سیاسی تقسیم کی حکمت عملی تیار کی گئی تھی مہاراشٹرا کے نتائج نے بہر کے عوام کو چوکنا کردیا تھا لیکن آسام میں عوام پر بہار کے نتائج کا اثر نہ ہونے کی بنیادی وجہ بدر الدین اجمل کی سیاسی جماعت ہے جس نے انتخابات سے قبل بلند بانگ دعوے کرتے ہوئے سیکولر محاذ کی تشکیل میں رکاوٹ پیدا کی اور ان کے ان دعوؤں کے درمیان ایک گوشے کی جانب سے مسلکی شدت پسندی کو ہوا دیتے ہوئے دو طرفہ وار کیا گیا جس کے بی جے پی کے حق میں بہتر نتائج برآمد ہوئے۔ان نتائج نے بی جے پی کے منصوبہ ساز گروہ کے حوصلوں میں اضافہ کیا ہے اور وہ اتر پردیش کے مجوزہ انتخابات میں سیکولر ووٹ کی تقسیم کیلئے در پردہ حلیفوں کا استعمال کرنے کے ساتھ ساتھ مسلکی اختلافات کو ہوا دینے کی منصوبہ بندی بھی کر رہے ہیں ۔ آسام میں مقامی مدد حاصل ہونے کے سبب حیدرآباد کی سمت نہیں دیکھا گیا لیکن اترپردیش میں آسام کی طرح مدد حاصل نہیں ہو سکتی جس کی وجہ سے اتر پردیش میں مہاراشٹرا اور بہار کی طرح نام نہاد قائدین کے استعمال کو یقینی بنایا جائے گا۔   

Beware of laptop, it can take your life: A 23-year-old electrocuted while working on laptop

Beware of laptop, it can take your life: A 23-year-old electrocuted while working on laptop

New Delhi: Brijesh Singh (23), the manager of a private firm in Govindpuri area of Southeast Delhi died on Sunday afternoon while working on his laptop. It is reported that laptop was connected to charger when he was checking his mail.
Police referred the matter to forensic experts to ascertain the cause of his death. The postmortem report is awaited. Meanwhile, police also consulted medical expert to find out whether Mr. Singh had a cardiac arrest due to electric shock. The case has been registered under section 174 of CrPC.
Police quoted the opinion of the experts that electrocution can happen if the house did not have a proper “earthing”.










बंगाल में कांग्रेस अलर्ट, स्टांप पेपर पर कांग्रेसी विधायकों से शपथ

बंगाल में कांग्रेस अलर्ट, स्टांप पेपर पर कांग्रेसी विधायकों से शपथ

मगरिबी बंगाल में करारी हार के बाद कांग्रेस की नींद खुली है। पार्टी ने अब अपने नेताओं पर नकेल कसनी की पूरी तैयारी कर ली है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर चौधरी ने मंगलवार को चुनाव में जीतने वाले विधायकों से वफादारी की लिखित कसम ली है।
कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी और राहुल गांधी को संबोधित शपथ पत्र में सभी विधायकों को हस्ताक्षर करना था। 100 रुपये के स्टाम्प पेपर में जारी किए गए इस शपथ पत्र में विधायकों से इस बाद का वादा भी लिया गया है कि वे पार्टी विरोधी किसी भी गतिविधि में शामिल नहीं होंगे।
बताया जा रहा है कि विधायकों से इस शपथ पत्र पर हस्ताक्षर कराने का फैसला पार्टी के सांसदों, जिला स्तर के अध्यक्ष और राज्य स्तर के पार्टी नेताओं ने एक बैठक के बाद लिया।
इस संबंध में जब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी से वजह पूछी गई तो उन्होंने कहा, यह कोई ऐसा बॉण्ड नहीं है जिसमें हमने किसी को हस्ताक्षर करने को मजबूर किया हो ताकि उनके खिलाफ एक्शन लिया जा सके, बल्कि यह शपथ पत्र पार्टी के प्रति उनकी वफादारी काे दिखाता है। उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी में नेताओं के बीच कई बातों या फैसलों पर मतभेद हो सकता है लेकिन कोई उसकी वजह से पार्टी के खिलाफ कोई काम न करे।
विधायकों से जिस शपथ पत्र में हस्ताक्षर कराए गए हैं उसके पहले प्वाइंट में लिखा है- हम पार्टी आलाकमान सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के प्रति अपनी वफादारी की कसम खाते हैं। जबकि दूसरे प्वाइंट में लिखा है- एक विधानसभा सदस्य के तौर पर मैं किसी भी पार्टी विरोधी गतिविधि में शामिल नहीं रहूंगा। यदि मैं पार्टी के किसी फैसले या नीति से सहमत नहीं हूं तो भी पार्टी के खिलाफ कोई भी बयान नहीं दूंगा।

Wednesday, 18 May 2016

RSS wants to rename Hyderabad, Ahmedabad and Aurangabad

RSS wants to rename Hyderabad, Ahmedabad and Aurangabad.

New Delhi: RSS has proposed that Hyderabad, Ahmedabad and Aurangabad to be renamed as Bhagyanagar, Karnavati and Sambhaji Nagar respectively.
RSS has pitched that Hyderabad to be renamed after goddess Bhagyalakshmi, Ahmedabad be named after a Hindu king Karan Dev I, of Solanki dynasty and Aurangabad after Chhatrapati Sambhaji.
RSS is of the opinion that the name of a place is tied to its “history and culture”.
According to a Hindustan Times report, a Sangh functionary told the daily, “We use the old, historic names of cities and not the ones that were given by invaders. As a free country, we should take pride in our culture.”
Last month, BJP-led Haryana government renamed Gurgaon district to Gurugram

सऊदी अरब के नागरिक पूरी दुनिया में सबसे ज़्यादा ख़ुश रहने वाले लोग हैं

सऊदी अरब के नागरिक पूरी दुनिया में सबसे ज़्यादा ख़ुश रहने वाले लोग हैं

संयुक्त राष्ट्र संघ में सऊदी अरब के राजदूत ने कहा है कि उनके देश को चुनावों की ज़रूरत नहीं है और इस देश के नागरिक अपनी सरकार के साथ पूरी दुनिया में सबसे ज़्यादा ख़ुश रहने वाले लोग हैं।
muslim_women
अब्दुल्लाह मुअल्लेमी ने अलजज़ीरा टीवी चैनल की वेबसाइट पर प्रकाशित होने वाले अपने साक्षात्कार में कहा कि यदि सीरिया मे चुनाव कराने की बात कही जा रही है तो इसका यह अर्थ नहीं है कि सऊदी अरब में भी चुनाव होना चाहिए।
मुअल्लेमी ने दावा किया कि यदि आज सऊदी अरब में जनमत संग्रह करा लिया जाए तो वर्तमान शासन व्यस्था को बहुत बड़े पैमाने पर समर्थन मिलेगा।
गत वर्ष दिसम्बर महीने में सऊदी अरब की शाही सरकार ने बहुत सीमित स्तर पर म्यूनिसिपिल चुनाव करवाए थे। चुने गए प्रतिनिधियों की एक सलाहकार असेंबली बनाई गई है जो क़ानूनों का प्रस्ताव दे सकती है। सऊदी अरब में राजनैतिक दल का गठन भी प्रतिबंधित है।
सऊदी अरब पर मानवाधिकार संस्थाएं तीखी टिप्पणी करती हैं कि इस देश में नागरिकों को अधिकारों से वंचित रखा गया है।

Sunday, 15 May 2016

बाबा रामदेव ने पेश किया शुद्ध देशी ‘पतंजलि मुर्गा’

बाबा रामदेव ने पेश किया शुद्ध देशी ‘पतंजलि मुर्गा’


शाकाहारियों के लिए आखिरकार एक अच्छी खबर है। बाबा रामदेव ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस आयोजित करके शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा पेश किया। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में बताया की ये पूरी तरह से शुद्ध देशी मुर्गा उन लोगों के लिए बना है, जो पूरी तरह शाकाहारी होने के कारण मुर्गा नहीं खा पाते हैं, सिर्फ लार-टपका के रह जाते हैं।

उन्होंने ने शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा के बारे में बात करते हुए बताया कि लोगों की मानसिकता बन गयी हैं कि विदेशी वस्तु अच्छी होती है। इस मानसिकता को तोड़ने के लिए उन्होंने अपने इस प्रोडक्ट का नाम ‘पतंजलि चिकन’ ना रख कर के ‘पतंजलि मुर्गा’ रखा है।
पतंजलि मुर्गा के बारे में उन्होंने आगे बताया कि ये पूरी तरह से नेचुरल प्रोसेस से बनता है, और 100% शुद्ध हैं। इसमें किसी भी तरह की मिलावट नहीं है, और ये पूरी तरह से देश में ही तैयार होती है।


बाबा ने कहा की ये आम मुर्गा से 100 गुना पौष्टिक है, जो बहुत से विटामिन और प्रोटीन से युक्त है। इसको खाने से बदहजमी और गैस की शिकायत भी दूर  हो जाती हैं। ये शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा जल्द ही पतंजलि स्टोर्स पर उपलब्ध हो जायेंगे।
बाबा के शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा  लांच करते ही भक्तों में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी।
जब एक भक्त से हमारे सवांददाता ने बात की तो उसने पत्रकार पर गुस्सा होते हुए बताया कि, “बाबा ने इसे ठीक होली से कुछ दिन पहले लांच किया है, ताकि होली के अवसर पर लोगों की बदहजमी ठीक रहे और लोग मुर्गा का भी आनंद ले सकें।”
उसका कहना था कि बाबा लोगों का कितना ख्याल रखते हैं, और आपलोग बस ‘काला धन विदेश से कब आएगा’- बोलते रहते हैं। जब हमारे महापुरुष कह कर गए हैं कि जब जो लिखा है वो तभी होगा, तब आप लोग बाबा के पीछे क्यों लगे हुए हैं? अगर आप को जल्दी है तो आप ही जा कर ले आइये!
इधर बाबा का कहना है कि वो जल्द ही भारतीय पतंजलि बैंक खोलने की तैयारी कर रहे हैं।

यूपी में हैं 20 हज़ार फ़र्ज़ी शिक्षक; पढ़िए पूरी रिपोर्ट

यूपी में हैं 20 हज़ार फ़र्ज़ी शिक्षक; पढ़िए पूरी रिपोर्ट

लखनऊ: यूपी के इंजीनियरिंग कॉलेजों में फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। यूपी के 608 इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों में करीब 20 हजार शिक्षक फर्जी हैं। एक ही टीचर पेपरों पर कई -कई कॉलेजों में पढ़ा रहे हैं। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय की एक जांच में यह तथ्य सामने आया है। जानकारी के अनुसार निजी कॉलेजों में तकरीबन कुल 41 हजार शिक्षक नियुक्त हैं जिनमें से लगभग आधे फर्जी पाए गए हैं।
गुरुवार को कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में समिति की बैठक में इस डेफिशिएंसी रिपोर्ट को रखा गया। अब कॉलेजों से 16 मई तक उनका स्पष्टीकरण मांगा गया है।
यूपी में इंजीनियरिंग कॉलेजों की हालत ऐसी है की गिनती देश के बड़े तकनीकी शिक्षण संस्थान में होती है। यूपी के अलग अलग कॉलेजों में हर साल साढ़े चार लाख छात्र पढ़ते हैं। जिसमें सिर्फ एक लाख छात्र पास होते हैं। उसमें भी 40-45 फीसदी छात्र नौकरी पाते हैं। बाकी के छात्र आगे हायर स्टडीज की तरफ जाते हैं

शहीद हेमंत करकरे के परिवार ने ठुकराए थे मोदी के 1 करोड़

शहीद हेमंत करकरे के परिवार ने ठुकराए थे मोदी के 1 करोड़

2008 में जब मुंबई पर हमला हुआ तो शहर को बचाने गए ATS के चीफ़ हेमंत करकरे अपने साथियों के साथ शहीद हो गए थे! जिसने उनके मरने से पहले के दृश्य देखें हैं वो जानते हैं कि करकरे की बहादुरी और देश के प्रति प्रेम पर कोई शक नहीं कर सकता. असल में इसमें एक मामला ये भी है कि जब हेमंत करकरे एटीएस के चीफ़ थे तब ही मालेगांव ब्लास्ट के सिलसिले में हिन्दू आतंकवाद की बात सामने आई थी और कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ़्तार किया गया था!
इस बारे में भारतीय जनता पार्टी के कई बड़े लीडर खुल के इन आतंक के आरोपियों के हितैषी बन गए थे, इन नेताओं में शिवराज सिंह चौहान से लेकर राजनाथ सिंह का नाम भी शामिल था और एक नाम जो शामिल था वो था गुजरात के तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिन्होंने एटीएस के विरुद्ध साध्वी प्रज्ञा जैसे आतंक के आरोपियों का साथ लिया था!
ये कार्यवाही और सुबूत जुटाना ये सब हो ही रहा था कि मुंबई में एक बड़ा आतंकी हमला हो गया और उसमें हेमंत करकरे कई साथियों के साथ शहीद हो गए! हमलों से जहां पूरा मुल्क शोक में था वहीँ हेमंत करकरे के शोक में शामिल होने जब तब के गुजरती मुख्यमंत्री और अब के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनके घर पहुंचे तो करकरे की बीवी ने मोदी से मिलने से मना कर दिया था और मोदी उनके परिवार को जो एक करोड़ का चेक लेकर वहां पहुंचे थे वो भी उनके बच्चों ने नहीं लिया!
आज 2016 में जब ये ख़बर आई है कि NIA ने प्रज्ञा ठाकुर जैसी संगीन आरोपी के ख़िलाफ़ सुबूत ना होने का दावा किया है तो कुछ अजीब भी लगता है और कुछ नहीं भी लगता है!

Monday, 9 May 2016

दिल्ली यूनिवर्सिटी से नरेन्द्र मोदी ने नही बल्कि राजस्थान के मोदी ने ली थी डिग्री; बड़ा ख़ुलासा

दिल्ली यूनिवर्सिटी से नरेन्द्र मोदी ने नही बल्कि राजस्थान के मोदी ने ली थी डिग्री; बड़ा ख़ुलासा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की डिग्री को लेकर आम आदमी पार्टी ने दावा किया है कि उसके पास कुछ ऐसे नए डाक्यूमेंट हैं जिनसे ये साबित किया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से स्नातक डिग्री हासिल करने के बारे में झूठी जानकारी दी है और हाल ही में कुछ समाचार पत्रों में प्रकाशित डिग्री फर्जी है।
Narendra Mahaveer Modi Degree DU Alwar 1
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार (5 मई, 2016) को दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) को एक पत्र लिख आग्रह किया था कि वह पीएम नरेंद्र मोदी की डिग्री वेबसाइट पर सार्वजनिक करे। आम आदमी पार्टी का कहना है कि ऐसा कोई डाक्‍यूमेंट नहीं हैं जो साबित करे कि ‘नरेंद्र दामोदर मोदी’ ने 1978 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से डिग्री हासिल की थी।

अब आम आदमी पार्टी का कहना है कि पीएम मोदी की ओर से दी गई ग्रेजुएशन की तारीख वाले दिन पीएम नरेन्द्र मोदी ने नही नरेंद्र महावीर मोदी ने डिग्री हासिल की थी। आप के अनुसार, यह नरेंद्र महावीर मोदी राजस्थान के अलवर से हैं जबकि पार्टी ने स्‍कूल सर्टिफिकेट के आधार पर कहा है कि पीएम मोदी गुजरात के बड़नगर से हैं।
टीवी चैनल NDTV ने राजस्थान के नरेन्द्र महावीर मोदी से संपर्क किया तो उन्होंने इस बात की पुष्ट‍ि की कि वह वर्ष 1975 से 1978 तक दिल्ली यूनिवर्सिटी में थे और केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली कॉलेज में उनके सीनियर थे।

ओवैसी को कट्टरवादी बताने वालों के मुंह पर करारा तमांचा है ,AIMIM के हिन्दू प्रत्यासी भी जीते

          ओवैसी को कट्टरवादी बताने वालों के मुंह पर करारा तमांचा है ,AIMIM के हिन्दू प्रत्यासी भी जीते ओवैसी के पार्टी AIMIM के टिकट ...