propeller

Sunday, 15 May 2016

बाबा रामदेव ने पेश किया शुद्ध देशी ‘पतंजलि मुर्गा’

बाबा रामदेव ने पेश किया शुद्ध देशी ‘पतंजलि मुर्गा’


शाकाहारियों के लिए आखिरकार एक अच्छी खबर है। बाबा रामदेव ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस आयोजित करके शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा पेश किया। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में बताया की ये पूरी तरह से शुद्ध देशी मुर्गा उन लोगों के लिए बना है, जो पूरी तरह शाकाहारी होने के कारण मुर्गा नहीं खा पाते हैं, सिर्फ लार-टपका के रह जाते हैं।

उन्होंने ने शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा के बारे में बात करते हुए बताया कि लोगों की मानसिकता बन गयी हैं कि विदेशी वस्तु अच्छी होती है। इस मानसिकता को तोड़ने के लिए उन्होंने अपने इस प्रोडक्ट का नाम ‘पतंजलि चिकन’ ना रख कर के ‘पतंजलि मुर्गा’ रखा है।
पतंजलि मुर्गा के बारे में उन्होंने आगे बताया कि ये पूरी तरह से नेचुरल प्रोसेस से बनता है, और 100% शुद्ध हैं। इसमें किसी भी तरह की मिलावट नहीं है, और ये पूरी तरह से देश में ही तैयार होती है।


बाबा ने कहा की ये आम मुर्गा से 100 गुना पौष्टिक है, जो बहुत से विटामिन और प्रोटीन से युक्त है। इसको खाने से बदहजमी और गैस की शिकायत भी दूर  हो जाती हैं। ये शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा जल्द ही पतंजलि स्टोर्स पर उपलब्ध हो जायेंगे।
बाबा के शुद्ध देशी पतंजलि मुर्गा  लांच करते ही भक्तों में ख़ुशी की लहर दौड़ गयी।
जब एक भक्त से हमारे सवांददाता ने बात की तो उसने पत्रकार पर गुस्सा होते हुए बताया कि, “बाबा ने इसे ठीक होली से कुछ दिन पहले लांच किया है, ताकि होली के अवसर पर लोगों की बदहजमी ठीक रहे और लोग मुर्गा का भी आनंद ले सकें।”
उसका कहना था कि बाबा लोगों का कितना ख्याल रखते हैं, और आपलोग बस ‘काला धन विदेश से कब आएगा’- बोलते रहते हैं। जब हमारे महापुरुष कह कर गए हैं कि जब जो लिखा है वो तभी होगा, तब आप लोग बाबा के पीछे क्यों लगे हुए हैं? अगर आप को जल्दी है तो आप ही जा कर ले आइये!
इधर बाबा का कहना है कि वो जल्द ही भारतीय पतंजलि बैंक खोलने की तैयारी कर रहे हैं।

यूपी में हैं 20 हज़ार फ़र्ज़ी शिक्षक; पढ़िए पूरी रिपोर्ट

यूपी में हैं 20 हज़ार फ़र्ज़ी शिक्षक; पढ़िए पूरी रिपोर्ट

लखनऊ: यूपी के इंजीनियरिंग कॉलेजों में फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। यूपी के 608 इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों में करीब 20 हजार शिक्षक फर्जी हैं। एक ही टीचर पेपरों पर कई -कई कॉलेजों में पढ़ा रहे हैं। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय की एक जांच में यह तथ्य सामने आया है। जानकारी के अनुसार निजी कॉलेजों में तकरीबन कुल 41 हजार शिक्षक नियुक्त हैं जिनमें से लगभग आधे फर्जी पाए गए हैं।
गुरुवार को कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक की अध्यक्षता में समिति की बैठक में इस डेफिशिएंसी रिपोर्ट को रखा गया। अब कॉलेजों से 16 मई तक उनका स्पष्टीकरण मांगा गया है।
यूपी में इंजीनियरिंग कॉलेजों की हालत ऐसी है की गिनती देश के बड़े तकनीकी शिक्षण संस्थान में होती है। यूपी के अलग अलग कॉलेजों में हर साल साढ़े चार लाख छात्र पढ़ते हैं। जिसमें सिर्फ एक लाख छात्र पास होते हैं। उसमें भी 40-45 फीसदी छात्र नौकरी पाते हैं। बाकी के छात्र आगे हायर स्टडीज की तरफ जाते हैं

शहीद हेमंत करकरे के परिवार ने ठुकराए थे मोदी के 1 करोड़

शहीद हेमंत करकरे के परिवार ने ठुकराए थे मोदी के 1 करोड़

2008 में जब मुंबई पर हमला हुआ तो शहर को बचाने गए ATS के चीफ़ हेमंत करकरे अपने साथियों के साथ शहीद हो गए थे! जिसने उनके मरने से पहले के दृश्य देखें हैं वो जानते हैं कि करकरे की बहादुरी और देश के प्रति प्रेम पर कोई शक नहीं कर सकता. असल में इसमें एक मामला ये भी है कि जब हेमंत करकरे एटीएस के चीफ़ थे तब ही मालेगांव ब्लास्ट के सिलसिले में हिन्दू आतंकवाद की बात सामने आई थी और कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ़्तार किया गया था!
इस बारे में भारतीय जनता पार्टी के कई बड़े लीडर खुल के इन आतंक के आरोपियों के हितैषी बन गए थे, इन नेताओं में शिवराज सिंह चौहान से लेकर राजनाथ सिंह का नाम भी शामिल था और एक नाम जो शामिल था वो था गुजरात के तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिन्होंने एटीएस के विरुद्ध साध्वी प्रज्ञा जैसे आतंक के आरोपियों का साथ लिया था!
ये कार्यवाही और सुबूत जुटाना ये सब हो ही रहा था कि मुंबई में एक बड़ा आतंकी हमला हो गया और उसमें हेमंत करकरे कई साथियों के साथ शहीद हो गए! हमलों से जहां पूरा मुल्क शोक में था वहीँ हेमंत करकरे के शोक में शामिल होने जब तब के गुजरती मुख्यमंत्री और अब के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उनके घर पहुंचे तो करकरे की बीवी ने मोदी से मिलने से मना कर दिया था और मोदी उनके परिवार को जो एक करोड़ का चेक लेकर वहां पहुंचे थे वो भी उनके बच्चों ने नहीं लिया!
आज 2016 में जब ये ख़बर आई है कि NIA ने प्रज्ञा ठाकुर जैसी संगीन आरोपी के ख़िलाफ़ सुबूत ना होने का दावा किया है तो कुछ अजीब भी लगता है और कुछ नहीं भी लगता है!

नेपाल में स्वाइन फ्लू ने की एंट्री !

भारत से सटे नेपाल के जिलों में स्वाइन फ्लू ने अपना प्रकोप फैकना शुरू कर दिया है ! पोखरा , पाल्पा जिलों में स्वयंव फ्लू तेज़ी से फ़ैल रहा...