propeller

Saturday, 5 March 2016

Christianity is at the moment the world’s largest faith, making up a 3rd of the world’s inhabitants with 2.2 billion adherents. Pew analysis exhibits that Islam is the quickest rising faith on this planet. The Islam will make up 30 % of the world’s inhabitants by 2050, in comparison with simply 23 % of the inhabitants in 2010. Meaning the  Muslims on the planet will practically equal the number of Christians by 2050.If Islam’s progress spurt continues, Pew knowledge reveals, Muslims may outnumber Christians quickly after the year 2070.
That is to not say that the whole Christians are decreasing; Christianity’s growth rate is simply not as quick as Islam’s. Whereas the  Christians will enhance from about 2.1 billion to 2.9 billion by 2050, Muslims will bounce from 1.6 billion to 2.8 billion.
This progress has to do with the comparatively younger age of the Muslim inhabitants in addition to converts and excessive fertility rate. Other religious groups  are getting old populations. Amongst Buddhists, for instance, half of adherents are older than 30 and​ the typical beginning charge is 1.6 kids. In contrast, in 2010, a 3rd of the Muslim inhabitants was below 15. What’s more, each Muslim woman has an average of 3.1 children, while the average for Christian women is 2.7.
The Pew analysis revealed two different fascinating shifts in world religious views, Cooper man says.
Atheists, agnostics and those that don’t affiliate with faith will make up a smaller share of the world’s complete inhabitants by 2050 — regardless that the group is rising within the U.S. and Europe. The decline is primarily as a result of those that are unaffiliated religiously have low fertility charges, with ladies bearing a mean of 1.7 youngsters of their lifetime.
Between now and 2050, the hub of Christianity will even shift — from Europe to sub-Saharan Africa. As of 2010, the vast majority of the Christian inhabitants — 25.5 % — lived in Europe, however sub-Saharan Africa will turn into dwelling to just about 40 % of the world’s Christians by 2050. Fertility charges are additionally behind this modification. Christians residing in sub-Saharan African have the best fertility charges amongst Christians worldwide: Each woman has, on average, 4.4 children.​
Cooperman emphasizes that quite a bit might change between now and 2050.
“We’re not saying that this may occur; it is if present patterns and developments proceed,” Cooper man says. “We have no idea what is going on to occur sooner or later. There could possibly be battle, revolution, famine, illness. These are issues nobody can predict and that might change
the numbers.”


'We want freedom in India, not freedom from India'

JNUSU leader Kanhaiya Kumar, after having been secretly released from Tihar, addressed a huge gathering of students on Thursday night.

Jawaharlal Nehru University Students Union President Kanhaiya Kumar declared on Thursday night that what students wanted was “freedom in India, not freedom from India.”
Addressing a huge gathering of students on the campus, soon after release from Tihar Jail, Mr. Kumar said: “It is not azadi from India, it is azadi in India [we want]... from the corrupt practices that are going on inside the country.” Mr. Kumar made his fiery speech at the same place where he had addressed students just a day before his arrest.
"Attack on JNU planned"
In his “home-coming” speech, Mr. Kumar took on the BJP government and Prime Minister Narendra Modi, saying that the university and its students were targeted because they took on the government through Occupy UGC movement and demanded justice for Hyderabad University student Rohith Vemula.
“The attack on JNU is a planned one as they want to de-legitimise the UGC protest, and to dilute the fight for justice for Rohith Vemula,” he said, amid loud cheers.
He started his one-hour long address by thanking everyone who supported him and the university during the crisis, before targeting the government.
“I come from a village, where there are magic shows. People show magic and sell rings that fulfil all wishes...We have some people like that in our country, who say black money will come back, sabka saath sabka vikas (development for all),” he said.
"Government does not take kindly to criticism"
Jawaharlal Nehru University Students’ Union president Kanhaiya Kumar said on Thursday that the BJP government did not take kindly to any criticism of its functioning or ideology.
Addressing a huge gathering of students on the campus, soon after his release from Tihar Jail on interim bail, Mr. Kumar said: “We Indians forget easily but the drama this time was so big that we still remember all the ‘Jumla’ used during election campaign. If you speak against the government, their cyber cell will send your doctored videos and count the number of condoms in your hostel; 69 per cent people of this country voted against their ideology. Only 31 per cent are those who were fooled by their ‘Jumlebaazi’.”
"Azadi from brahminism, azadi from casteism"
Further explaining the term “azadi” that is often used by JNU students during their speeches, Mr. Kumar said: “I want to tell the entire nation, today, what is the azadi that we ask for. We want azadifrom capitalism, from brahminism, from casteism, this is the kind of azadi that we want.”
He also spoke to the students about his time in jail. “When I spent time in jail, I realised that the constable who was taking me for medical tests, for food, they are also people like me. They are also a part of the corrupt system. When I tried to explain to them my views, they understood what is the kind of azadi that we have been demanding.” Mr. Kumar came to the JNU campus after meeting some leaders at the CPI office. He will also address a press conference along with the senior party leaders on Friday.

ये हैं दुनिया के मोस्ट वॉन्टेड पांच आतंकवादी

इस वक्त पूरी दुनिया आतंकवाद के संकट से जूझ रही है. कई छोटे बड़े आतंकवादी अपने संगठनों के जरिए आतंक की दुनिया में अपने पांव जमाने की कोशिश कर रहे हैं. ये आतंकी संगठन हजारों बेगुनाह लोगों की जान ले चुके हैं. यही वजह है कि इन संगठनों के सरगना अब दुनिया के मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी बन चुके हैं. जानिए कौन हैं दुनिया के सबसे कुख्यात पांच आतंकी.

अबू बक्र अलबगदादी
01. अबू बक्र अल-बगदादी, आईएसआईएस
दुनिया में यह नाम अब दरिंदगी और दहशत का दूसरा नाम बन चुका है. आईएसआईएस नामक आतंकी संगठन का यह सरगना कभी-कभी चेहरे पर नकाब पहनता है. इसीलिए उसे 'अदृश्य शेख' भी कहा जाता है. पहली बार वह जुलाई 2014 में एक वीडियो में दिखाई दिया था. जिसमें उसने मुसलमानों से उसे अपना खलीफा मानने की बात कही थी. वैसे तो अलकायदा आतंक की दुनिया का बड़ा नाम है, लेकिन इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया यानि आईएसआईएस उससे बड़ा शैतान बन गया है. अल बगदादी के नेतृत्व में इस आतंकी संगठन ने उत्तरी इराक और पश्चिमी सीरिया पर कब्ज़ा कर रखा है. अबु बक्र अल बगदादी का ये संगठन इतना बर्बर और हिंसक है कि अलकायदा ने भी इसकी निंदा की थी. इस आतंकी संगठन में दुनियाभर के लड़ाके शामिल हैं, जिनमें ब्रिटिश मुस्लिम लड़ाकों की तादाद सबसे ज्यादा है.

अयमान अल जवाहिरी
02. अयमान अल जवाहिरी, अलकायदा
अयमान अल जवाहिरी का जन्म 19 जून, 1951 को मिस्र में हुआ था. उसने आतंकी संगठन में शामिल होने से पहले काहिरा विश्वविद्यालय से सर्जरी में मास्टर डिग्री हासिल की थी. वह डॉक्टरों और विद्वानों के एक संपन्न और अमीर परिवार से ताल्लुक रखता है. वह अफगानिस्तान पर सोवियत कब्जे का विरोध करने के लिए कट्टरपंथी इस्लामिक जिहाद में शामिल हुआ था. इसी दौरान उसकी मुलाकात अल कायदा के प्रमुख ओसामा बिन लादेन से हुई थी. उसे चेचन्या में जिहादियों की भर्ती के लिए हिरासत में लिया गया था. और मिस्र में 62 पर्यटकों की मौत का इल्जाम लगने के बाद अल जवाहिरी का नाम एफबीआई की मोस्ट वांटेड लिस्ट में शामिल हो गया. अलकायदा दुनियाभर में आतंकी संगठनों में सबसे बड़ा ब्रांड माना जाता है. इस उग्रवादी संगठन की स्थापना 1989 में ओसामा बिन लादेन ने की थी. ओसामा के नेतृत्व में ही अलकायदा ने अमेरिका में 9/11 का हमला किया था. इसके बाद अफगान युद्ध शुरू हुआ, जो मई 2012 में लादेन की मौत के साथ खत्म हुआ. अब यह संगठन अल-जवाहरी के नेतृत्व में अपना नेटवर्क फिर से मजबूत करने में लगा है.

जलालुद्दीन हक्कानी
03. जलालुद्दीन हक्कानी, तालिबान
वह अफगानिस्तान में तालिबान के तमाम गुटों में सबसे खूंखार हक्कानी नेटवर्क का मुखिया है. उसका मकसद अफगानिस्तान में शरीयत कानून लागू करना है. तालिबान एक पश्तो शब्द है जिसका मतलब है छात्र. तालिबान दुनिया के उन चुनिंदा आतंकी संगठनों में से एक है जिन्होंने किसी देश पर राज किया हो. इस संगठन ने अफगानिस्तान में 1996 से 2001 तक सत्ता सम्भाली. इस संगठन की स्थापना मुल्ला मोहम्मद उमर ने की थी. तालिबान ने अफगानिस्तान में शरियत और इस्लामी कानून लागू कर इसे सदियों पीछे धकेल दिया. इसे अलकायदा का समर्थन भी हासिल था. मगर अमेरिकी हमले ने इसे अफगानिस्तान के कई इलाकों से उखाड़ फेंका.

मौलाना फजलुल्लाह
04. मौलना फजलुल्लाह, तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी)
इस आतंकी संगठन के दूसरे मुखिया हकीमुल्लाह महसूद की मौत के बाद मौलाना फजलुल्लाह ने इस संगठन की कमान संभाली है. मौलना फजलुल्लाह इस संगठन के संस्थापक महसूद का खास माना जाता है. संगठन में आतंक के दम पर जगह बनाने वाले फजलुल्लाह को नवंबर 2013 टीटीपी का तीसरा मुखिया चुना गया था. टीटीपी का ठिकाना पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा पर मौजूद आदिवासी क्षेत्र में है. यह संगठन कई इस्लामिक आतंकी संगठनों से मिलकर बना है. पाकिस्तानी तालिबान के नाम से कुख्यात इस संगठन की स्थापना पाकिस्तानी के कुख्यात आतंकवादी बैतुल्ला महसूद ने किया था, जिसकी 23 अगस्त, 2009 को मौत हो गयी थी. पाकिस्तानी तालिबान अक्सर पाकिस्तानी राज्यों को अपना निशाना बनाता रहा है. लेकिन कई खुफिया एजेंसियों का मानना है कि इस संगठन का असली मकसद अमेरिका के कई बड़े शहरों को अपना निशाना बनाना है. इसी संगठन ने पाकिस्तान के पेशावर में स्कूल पर हमला कर कई मासूम बच्चों की जान ली थी.

अबू बकर शेकऊ
05. अबू बकर शेकऊ, बोको हराम
अफ्रीका में अबू बकर शेकऊ आतंक का सबसे बड़ा नाम बन चुका है. यहां के कई देशों की सरकारें उसके नाम से कांपती हैं. अफ्रीका के विभिन्न देशों में कहर बरपाने वाला अबू बकर शेकऊ आतंकी संगठन बोको हराम का सरगना है. जो नाइजीरिया समेत कई अफ्रीकी देशों में इस्लामी राज और शरीया कानून लागू करना चाहता है. उसका आतंकी संगठन बोको हराम नाइजीरिया से संचालित हो रहा है. यह आतंकी संगठन अपनी बर्बरता के लिए जाना जाता है. यह संगठन उस वक्त दुनिया की नजर में आया जब इसने नाइजीरिया के एक स्कूल से 250 छात्राओं को अगवा कर लिया था. अंग्रेजी में बोको हराम का अर्थ है 'पश्चिमी शिक्षा पाप है'. सामाजिक-आर्थिक मुद्दों से निपटने में विफल नाइजीरियाई सरकार की ज्यादा रोकटोक के बिना यह आतंकी संगठन अपना काम आसानी से अंजाम दे रहा है.

आंदोलन की आड़ में महिलाओं से गैंगरेप!

कहते हैं भीड़ का कोई चेहरा नहीं होता और दंगाइयों के सीने में दिल नहीं होते. हरियाणा में हुए हिंसक जाट आंदोलन के बाद अब जो गुनाह के निशान बाकी बचे हैं, वो कुछ यही कहानी बयान करते हैं. सोनीपत के नजदीक मुरथल में जली हुई गाड़ियों के पास सड़क से लेकर खेतों तक बिखरे महिलाओं के कपड़े क्या महज इत्तेफाक हैं? या फिर इसके पीछे आंदोलन की आड़ में दसियों महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप की रौंगटे खड़े कर देने वाली कहानी छिपी है?
लेकिन जब खाकी में लिपटे कानून के मुहाफिजों से लेकर खद्दर में सिमटे सूबे के हुक्मरान तक, सभी अपने कानों में तेल डाल कर सो जाएं, तो भला आवाम की फरियाद कौन सुने? लिहाजा, अखबारों की सुर्खियों के बाद सुरागों की शक्ल में बिखरे वारदात के इन सुबूतों को खुद इंसाफ के मंदिर में बैठे पुजारियों ने ही समेटने का बीड़ा उठाया. पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट ने सरकार से इन तस्वीरों की तह तक पहुंचने की ताकीद कर डाली.
 
20 से 22 फरवरी तक आंदोलन की आग में बुरी तरह जलने के बाद जब हरियाणा शांत हुआ, तो दिल्ली से तकरीबन 48 किलोमीटर दूर मुरथल में लोगों को हाईवे किनारे की तस्वीरों ने चौंका दिया. ये तस्वीरें दूर-दूर तक बिखरे महिलाओं के कपड़ों की थीं. इत्तेफाक से ये सभी कपड़े महिलाओं के थे. उसी जगह पर चंद रोज पहले आंदोलन की आड़ में गुंडों ने भयानक कोहराम मचाया था. हावे से गुजरती गाड़ियों को रोक कर आग के हवाले कर दिया था. लोगों के साथ मारपीट और महिलाओं से बदतमीजी की थी. क्या वो सिर्फ बदतमीजी थी या फिर लोगों की मजबूरियों का फायदा उठा कर महिलाओं के साथ गैंगरेप भी हुआ था?जब सब कुछ देखते हुए भी पुलिस ने हकीकत जानने की कोशिश किए बगैर अपनी आंखें फेर ली, तो इस मंजर पर सवाल खड़े हुए. खबर आई कि गैंगरेप की वारदात के बाद कुछ पीड़ित महिलाओं ने जब पुलिस से फरियाद की, तो पुलिस ने इसकी शिकायत लिखने की बजाय लोकलाज का डर दिखा कर उन्हें चुप रहने की हिदायत दी. खबर यह भी आई कि दरिंदों के चंगुल से छूटने के बाद कुछ महिलाओं ने पास ही एक ढाबे में जाकर अपनी जान भी बचाई और तब ढाबे के मुलाजिमों ने उन्हें खाली पड़े पानी के टैंक में छुपने की जगह भी दी थी. लेकिन जब पुलिस ने सिरे से तमाम सवालों को खारिज कर दिया, तो हाई कोर्ट को बीच में आना पड़ा. तब शुरू हुई दस से ज्यादा महिलाओं के साथ हुए गैंगरेप की सबसे बड़ी तफ्तीश.
जो लोग मुरथल में गैंगरेप की कचोटने वाली कहानियों के चश्मदीद थे, आज उनके लबों पर ताले लगे हैं. कल तक जो दबी जुबान से दरिंदगी के किस्से बयान कर रहे थे, आज वो सब चुप बैठे हैं. ऐसे में दस से ज्यादा महिलाओं के साथ कथित गैंगरेप की असली कहानी कभी सामने भी आएगी, ये एक बड़ा सवाल है.. सड़क के किनारे बिखरे लेडीज कपड़ों से लेकर जली हुई गाड़ियों तक को देखते ही पहली नजर में ये शक पैदा होता है कि यहां महिलाओं के साथ रेप या गैंगरेप जैसी कोई वारदात जरूर हुई है.
जाट आंदोलन के दौरान यहां गुंडों ने मुसाफिरों के साथ लूटपाट की थी. मुमकिन है कि इस लूटपाट के दौरान वहां किसी मुसाफिर का ब्रिफकेस टूट कर गिर गया, जिससे ये कपड़े बिखर गए. पुलिस का यहां तक कहना है कि अगर किसी लड़की के साथ यहां गुंडों ने गैंगरेप ही किया होता, तो कोई ना कोई शिकायत लेकर उनके पास जरूर पहुंचता. पुलिस तो यहां तक कह रही है कि उन्हें ना तो ऐसी किसी वारदात का कोई चश्मदीद मिला और ना ही अब तक की जांच में आस-पास के ढाबों या दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरों में ऐसी किसी वारदात की तस्वीरें मिलीं.
लेकिन तर्क की कसौटी में पुलिस का ये इनकार फिलहाल कमज़ोर नजर आता है. सवाल ये है कि अगर वहां कपड़े किसी के साथ हुई लूटपाट के दौरान ही गिरे, तो सिर्फ महिलाओं के कपड़े ही क्यों मिले? ऐसी सूरत में वहां लेडीज अंडर गार्मेंट्स के अलावा दूसरी चीजे भी पड़ी होनी चाहिए थीं. अखबार में छपी रिपोर्ट्स के मुताबिक तो नग्न हालत में कुछ महिलाएं पास के ढाबे में मदद मांगने के लिए भी पहुंची थी.
आरोप तो यहां तक है कि पुलिस ने ही शिकायत के लिए आई महिलाओं को लोकलाज और कानून का डर दिखा कर थाने से चलता कर दिया था. जबकि पुलिस खुद भी ये मानती है कि अब तक तमाम सीसीटीवी फुटेज की जांच पूरी नहीं हुई है. दस गैंगरेप के इस संदिग्ध मामले में पुलिस के काम करने के तौर-तरीके पर ही सबसे बड़ा सवाल है. शायद इसी बात को देखते हुए हाई कोर्ट ने इस वारदात को ना सिर्फ शर्मसार करने वाला करार दिया है, बल्कि यहां तक कहा है कि उनके पास मामले को सीबीआई के हवाले करने का भी ऑप्शन है.

नेपाल में स्वाइन फ्लू ने की एंट्री !

भारत से सटे नेपाल के जिलों में स्वाइन फ्लू ने अपना प्रकोप फैकना शुरू कर दिया है ! पोखरा , पाल्पा जिलों में स्वयंव फ्लू तेज़ी से फ़ैल रहा...