propeller

Tuesday, 1 March 2016

      

जाट आंदोलन: मीटिंग में रो पड़े CM, कहा- 1947 के दंगों से भी डरावने थे हालात

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         जाट आंदोलन पर चर्चा के लिए दिल्ली के हरियाणा भवन में सोमवार शाम बीजेपी के विधायक दल की मीटिंग हुई। आंदोलन के वक्त हरियाणा में हुई हिंसा पर बीजेपी नेताओं का गम और गुस्सा इस मीटिंग में फूट पड़ा। क्यों रो पड़े सीएम खट्टर...
- सूत्रों के मुताबिक मनोहर लाल खट्टर हिंसा को 1947 के दंगों से भी ज्यादा भयावह बताकर फूट-फूट कर रो पड़े।
- सीएम ने कहा कि हम अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकते, दोषियों को उनके किए की सजा मिलेगी।
क्या सीएम को हटाने की रची गई थी साजिश?
- मीटिंग में गैर जाट विधायकों ने आरोप लगाया कि सीएम को कमजोर साबित कर सत्ता पलटने की साजिश रची गई थी। अपने ही कम्युनिटी की बात कहकर सीएम को हिंसा की सही जानकारी नहीं दी गई। 
- आरोप ये भी लगे कि जाट मिनिस्टर्स ने अफसरों को कार्रवाई के लिए रोका। कहीं-कहीं उपद्रवियों को बचाने की भी कोशिश की गई। 
- विधायकों ने कांग्रेस पर हिंसा फैलाने की साजिश का आरोप लगाया।
सीबीआई जांच की मांग

- मीटिंग में विधायकों ने कहा कि पूरे मामले की CBI या फिर सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस से जांच कराई जाए। 
- इस हिंसा के पीछे पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा की साजिश को लेकर उन पर भी दर्ज हो एफआईआर।
- दोषी अफसरों को केस दर्ज कर अरेस्ट किए जाने की मांग उठी।
प्रो. वीरेंद्र के नाम अरेस्ट वारंट जारी, छापेमारी शुरू
- जाट आंदोलन के दौरान लोगों को भड़काने के आरोपी कांग्रेस नेता प्रोफेसर वीरेंद्र के नाम कोर्ट ने अरेस्ट वारंट जारी किया है।
- पुलिस ने अब वीरेंद्र और दलाल 84 खाप के प्रवक्ता कैप्टन मान सिंह की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी है।
- भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा के पॉलिटिकल एडवाइजर प्रो. वीरेंद्र सिंह और मान सिंह का एक भड़काऊ ऑडियो वायरल हुआ था।
- पुलिस ने दोनों के खिलाफ देशद्रोह जैसी धाराओं में केस दर्ज किया है।
अफसर भुगतेंगे खामियाजा, होगा बड़ा फेरबदल
- हिंसा के दौरान अपनी ड्यूटी जिम्मेदारी से नहीं निभाने वाले अफसरों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
- सरकार रोहतक के बाद अन्य जिलों में भी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई का मन बना चुकी है।
- पुलिस डिपार्टमेंट भी काफी फेरबदल किया जाएगा।
- विधायकों की मांग पर यह बताया गया कि सरकार हर एक संदिग्ध अफसर की रिपोर्ट तैयार करवा रही है।
कास्ट बेस्ड नौकरियों पर व्हाइट पेपर को लेकर बहस
- रेवाड़ी से एमएलए रणधीर सिंह कापड़ीवास ने मांग की है कि सरकार व्हाइट पेपर जारी कर यह साफ़ करे कि किस जाति को कितनी नौकरियां दी गई हैं।
- इस पर फाइनेंस मिनिस्टर कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि अभी व्हाइट पेपर जारी करने के लिए माहौल सही नहीं है।
क्या हुआ था हरियाणा में ?
- हरियाणा में पिछले दिनों जाट कम्युनिटी रिजर्वेशन की मांग को लेकर हिंसक हो गई थी।
- हफ्तेभर से ज्यादा चले आन्दोलन के दौरान उपद्रवियों ने जमकर उत्पात मचाया।
- पूरा हरियाणा लूट-पाट और आगजनी की घटनाओं से जल उठा। इससे कई सौ करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।
- मिनिस्टर्स के घर पर भी हमले हुए। हालात इतने बिगड़ गए कि राज्य में सेना को मोर्चा संभालना पड़ा।
- आन्दोलन के दौरान कुछ जगहों पर महिलाओं के हैरेसमेंट की शिकायतें भी सामने आईं।

सोशल मीडिया-कार्टूनिस्ट्स की नजर में बजट- 'जेटली सर! कोणो बड़ा काम ना किए आप'

  • dainikbhaskar.com
  • Mar 01, 2016, 11:02 AM IST
कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य के ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया गया कार्टून।सोमवार को जैसे ही अरुण जेटली ने बजट स्पीच शुरू की, सोशल मीडिया पर यूजर्स रिएक्शन देने में जुट गए। किसी ने इसे पीएम के एग्जाम से जोड़ा, तो किसी ने चीजें महंगी होने पर गवर्नमेंट को आड़े हाथ लिया। दालें अब महंगी नहीं होने के फाइनेंस मिनिस्टर के दावे पर यह मैसेज वायरल हुआ- ‘जेटली सर! दालें पहले से महंगी हैं, कह के कोणो बड़ा काम ना किए आप।’ मोदी बोले थे- मुझे भी परीक्षा देनी है...
- पीएम ने रविवार को 'मन की बात' प्रोग्राम में कहा था कि बजट के दिन मुझे भी परीक्षा देनी है।
- उन्होंने कहा था कि सवा सौ करोड़ देशवासी मेरी परीक्षा लेने वाले हैं। हम सब सफल हों, तो देश भी सफल होगा।
ट्विटर पर क्या आईं रिएक्शन्स?
@उमर अब्दुल्ला, नेशनल कॉन्फ्रेंस- सूट-बूट वाले लोगों के फायदों पर फोकस न करते हुए जेटली जी ने बड़ी चतुराई से विपक्ष का काम मुश्किल बना दिया है। 
@संजय निरुपम, कांग्रेस- वह व्यक्ति, जिसने कहा था ‘न खाऊंगा न खाने दूंगा’, आज काली कमाई के लिए पाचन गोलियां खाने की सलाह दे रहा है।
- @प्रियंका चतुर्वेदी, कांग्रेस प्रवक्ता - भाजपा के शासन में 'मनरेगा' को अब तक की सबसे ज्यादा राशि मिली, जबकि मोदीजी ने मनरेगा को बड़ी विफलता बताया था।
- @आनंद महिंद्रा, एमडी महिंद्रा समूह -करों और कारों पर हमारी भारी निराशाओं के बावजूद बाजार में खलबली मचने का कोई कारण नहीं दिखता।
फेसबुक पर भी आए मजेदार रिएक्शन
@विशाल सारस्वत, कानपुर- जब तक जड़ पानी में है, तब तक फल की आस! 
@शिवम कुमार मिश्रा, बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी- बजट में कार महंगी न होती तो 2-4 कारें लेने का मूड बन ही गया था।..ख़ैर अब क्या? 
@जय त्रिवेदी, राजस्थान- शेयर बाजार में 300 अंकों की गिरावट। मुझे तो सूत्रों से ये भी पता लगा है कि सरकार भी गिरने की तैयारी करके आई है। 
@जिद्दी दोहे- बेरोजगारी पर लंबी स्पीच देने वालों ने बजट में नई नौकरियों के बारे में कोई घोषणा नहीं की।
बजट से एक दिन पहले ही आने लगे थे फनी कमेंट
- बता दें कि बजट पेश होने से पहले रविवार से सोशल मीडिया पर फनी रिएक्शन आने लगे थे।
- यूजर्स ने खूब फनी रिएक्शन किए। इस वजह से रविवार देर रात तक #JumlaBudget टॉप ट्रेन्ड में रहा।
- सन्डे को सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर बीजेपी गवर्नमेंट और दूसरे नेता रहे।
वॉट्सऐप पर ऐसे चले कमेंट्स
- अब महंगी नहीं होगी दालें - जेटली सर, दालें पहले से महंगी हैं, कह के कोणो बड़ा काम ना किए आप।
- एकदम बकवास बजट है, सब हमारी पुरानी योजनाओं को ही कॉपी किया है : कांग्रेस। मतलब कांग्रेस मान रही है कि उसकी योजनाएं बेकार थीं। 
- सिंगल मदर की बजट पर प्रतिक्रिया: जिस तेजी से देश में चीजों की कीमतें बढ़ती हैं, हमारी तनख्वाह क्यों नहीं बढ़ती।

नेपाल में स्वाइन फ्लू ने की एंट्री !

भारत से सटे नेपाल के जिलों में स्वाइन फ्लू ने अपना प्रकोप फैकना शुरू कर दिया है ! पोखरा , पाल्पा जिलों में स्वयंव फ्लू तेज़ी से फ़ैल रहा...