Add

Thursday, 8 September 2016

गणेश विसर्जन के दौरान पुलिस इंस्पेक्टर को तालाब में डुबाने का किया प्रयास

गणेश विसर्जन के दौरान पुलिस इंस्पेक्टर को तालाब में डुबाने का किया प्रयास

तहलका न्यूज ब्यूरो
मुंबई. मायानगरी मुम्बई से सटे उपनगर कल्याण से चौंकाने वाली घटना का वीडियो सामने आया है. यहाँ डेढ़ दिन के गणपति विसर्जन के दौरान ड्यूटी पर तैनात पुलिस इंस्पेक्टर पर हमला कर को न केवल तालाब में फेंका गया बल्कि उन्हें डुबाकर जान से मारने की कोशिश भी की गई.
मंगलवार की रात पुलिस इंस्पेक्टर नितीन डगले को 4 लोगों ने तीस हाथ नाका तालाब में फेंककर डुबोने की कोशिश की, लेकिन वे किसी तरह खुद को बचाने में कामयाब रहे. उन्होंने बताया कि कल्याण में मंगलवार को डेढ़ दिन के गणपति का विसर्जन किया जा रहा था. उन्होंने देर रात हो जाने के चलते जरीमरी माता गणेश मित्र मंडल के कार्यकर्ताओं को जल्द विसर्जन करने का निर्देश दिया. इससे गुस्साए चार युवकों ने पुलिस इंस्पेक्टर डगले को पकडक़र तालाब में धकेल दिया और उन्हें डुबाने की कोशिश करने लगे.
नितिन डगले इस मामले में कोलसेवाड़ी पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई है. पुलिस आरोपियों की तलाश सरगर्मी से कर रही है. बताया जा रहा है कि पूरी घटना इलाके में लगे वहां खड़े व्यक्ति ने मोबाइल में रिकार्ड कर ली थी, इस फुटेज के आधार पर पुलिस आरोपियों की पहचान में जुटी है.


Wednesday, 7 September 2016

THE STORY OF ZAMZAM WATER

 THE STORY OF ZAMZAM WATER !!!

THE STORY OF ZAMZAM WATER The Prophet Ibrahim (pbuh) came to Makka with his wife Haggar and their baby Ismail. He left his family there on Allah’s orders. Haggar and Ismail consumed all the water and Ismail started to cry… Haggar was helpless, and started running from the top of one hill: AS’AFA to the next: 
ALMARWAH in search of help… She did that 7 times… She returned to Ismail when she heard a voice… She asked the voice for help. Gabriel (pbuh) hit the ground and water came out… Haggar covered the hole with sand to prevent the water from spilling out. That was Zamzam water… A caravan was passing by the valley and noticed birds hovering around the water, which was never present before, so they requested Haggar’s permission to camp near the water. This marked the beginning of Makka…
Civilization increased further after Ibrahim and Ismail (Peace Be Upon Them) built the Holy Mosque. The Tribe Jurhum was the historical custodian of the Holy Mosque until the Tribe Khuz’ah took over. Around the 5th Century A.D. Qusay Ibn Kilab was the custodian of the Holy Mosque and Zamzam. Unfortunately the well was neglected and was eventually buried. Abdul Muttalib Ibn Hashim, the grandfather of Prophet Mohammad (pbuh) dug the well once more after the event of the Elephant and Zamzam water emerged once again. A VERSE FROM THE HOLY QUR’AN "O our Lord! I have made some of my offspring to dwell in a valley without cultivation, by Thy Sacred House; in order, O our Lord, that they may establish regular Prayer: so fill the hearts of some among men with love towards them, and feed them with fruits: so that they may give thanks.( Quran [Surah Ibrahim'14:37] 
My God, I left some of my family in this valley by Your Holy Mosque. Please God, make them perform their prayers, and let the hearts of people go to them, and support them with the means of living that they may be thankful. PROPHET MUHAMMAD P.B.U.H HADITH OF ZAM ZAM WATER The Messenger of Allah (pbuh) said “The best water on the face of the earth is the water of Zamzam; it is a kind of food and a healing from sickness.” (Saheeh al-Jaami’, 3302). 
The Messenger of Allah, salallahu alayhe wa sallam has said:" The most sublime of all earthly waters is that of zamzam; therein one finds food for the hungry and medicne for the ill." [ At- Tabarani ] 
It was reported in Saheeh Muslim that the Prophet (peace and blessings of Allaah be upon him) said to Abu Dharr, who had stayed near the Ka’bah and its coverings for forty days and nights with no food or drink other than (Zamzam): “How long have you been here?” Abu Dharr said: “I have been here for thirty days and nights.” The Prophet (peace and blessings of Allaah be upon him) said, “Who has been feeding you?” He said, “I have had nothing but Zamzam water, and I have gotten so fat that I have folds of fat on my stomach. I do not feel any of the tiredness or weakness of hunger and I have not become thin.” The Prophet (peace and blessings of Allaah be upon him) said: “Verily, it is blessed, it is food that nourishes.” (Narrated by Imaam Muslim, 2473). NAMES OF ZAMZAM Zamzam water was named “ZAMZAM” because of the abundance of its water. It was also said because it collects. Another reason was that Hajjar said: “Zam, zam” which means stay in one place.
THE ETIQUETTE AND HOW TO DRINKING ZAMZAM WATER Ibn Abbas reported: I served. (water of) zamzam to Allah's Messenger (may peace be upon him), and he drank it while standing. (Book #023, Hadith #5023)
Ibn 'Abbas reported: I served (water from) zamzam to Allah's Messenger (may peace be upon him), and he drank while standing, and he asked for it while he was near the House (i. e. House of Allah-Ka'ba). (Book #023, Hadith #5026)
Narrated Ibn Abbas: I gave zam-zam water to Allah's Apostle and he drank it while standing. 
Asia (a sub-narrator) said that Ikrima took the oath that on that day the Prophet had not been standing but riding a camel. Sahih Bukhari(Book #26, Hadith #701)
Conclusion is:

* Face the direction of the Qiblah.
* Say the Name of Allah.
* Thank Allah Almighty.
THE BEST WATER Zamzam water is the best in the Universe. And Al-Kawthar Water is the best in the Next Life.
Some scholars stated that the best water ever was the one that came through the fingers of Prophet Mohammad (pbuh), followed by Zamzam water, then Al-Kawthar Water, then the River Nile water and then the rest of the rivers.
Zamzam well is located 18 meters from the Black Stone to the East of the door of the Ka’ba, behind Maqam Ibrahim.
It is clearly marked by a sign: “ZAMZAM WATER WELL” which is 156 cm above the actual well, under the Mattaf.
SCIENTIFIC ANALYSIS OF ZAMZAM WATER In 1908 and 1973, chemical analyses were performed and proved that Zamzam water is indeed free of germs or pollutants. It is considered a mineral water, as its mineral content is 2000 mg/litre. It contained the following minerals: Calcium, Sodium, Magnesium, among many others. Zamzam is the richest mineral water with Calcium (200 mg/litre). The Prophet Mohammad (pbuh) was truthful when he said: “Zamzam is the feed of Hunger”.
Chemical tests proved that Zamzam water is exceptionally pure and has neither colour nor taste. By international health standards, especially those of the World Health Organization, Zamzam water is perfectly potable, has good health results and has a high sodium content.
It was also discovered that by the Will of God Almighty, on evaporation, mineral content of Zamzam increases, however it has no adverse results on health, on the contrary, it is extremely beneficial.
All the above tests proved that Zamzam water is pure and potable as per international standards, and can only confirm the miracles of the Prophet Mohammad (pbuh), whom Allah had said: “NOR DOES HE SPEAK OUT OF CAPRICE. IT IS NOTHING BUT A REVELATION REVEALED (QUR’AN)” Surat An-Nijm (3-4).

Monday, 5 September 2016

सबसे बड़ा रोग क्या काहेंगे लोग !

सबसे बड़ा रोग क्या काहेंगे लोग !

उडान के संबधीत सभी नियमो के अनुसार मधुमखियो मैं उड़ने की क्षमता ही नहीं, उनके पंख इतने छोटे हैं की वो उनके भारी शरीर का वजन उठा ही नहीं सकते बावजूद इसके मधुमख्खिया फिर भी उडती हैं क्योकी, मधुमख्खियो को इस बात से कोई फरक नहीं पड़ता की इन्सान क्या सोचता हैं.
इस कहावत से यही बात सामने आती हैं की मधुम्ख्खियो को या किसी भी जानवर को इस बात का फर्क नहीं पड़ता की उनके बारे मे बाकी क्या सोचते हैं, पर इन्सान की एक यही आदत सभी समस्याओ की जड़ हैं हमारी सोच की लोग क्या कहेगे, लोग क्या सोचेगे, उनको क्या लगेगा इसी सोच की वजह से हम कुछ भी खुलकर और Confident के साथ नहीं कर पाते. क्योकी हम कोई भी काम करने से पहले दस बार लोगे के बारे मैं सोचते हैं और अगर हम कोई काम करेगे और इसमें हम कामयाब नहीं हो पाये तो मेरे दोस्त, रिश्तेदार, पडोसी, मेरे पहचानवाले मेरे बारेमे क्या सोचेगे इस डर की वजह से हम कोई भी काम करने से कतराते हैं. लेकिन जिंदगी मैं अगर कुछ बड़ा काम करना होगा तो लोगो के बारे मैं सोचना छोड़ देना होगा.
एक दिन एक आदमी मार्निंग वाक को गया तभी उसने एक गली मैं एक लड़के को कचरा उठाते हुये देखा वहां के दो-चार कुत्ते उस पर भोक रहे थे उस आदमी ने उस लड्के की एक बात गोर की वो भोकते हुये कुत्तो को देखकर उस लड़के के चेहरेपर न कोई डर न उस लड़के का उन कुत्तो पर कोई ध्यान था वह लड़का बस अपना कचरा उठाने का काम कर रहा था वो लड़का वहासे दूसरी गली मैं गया तो दूसरी गली के कुत्ते भी उसे देखकर भोकने लगे वहा पर भी उस लड़के ने कुत्तो की तरफ ध्यान न देकर अपना कचरा उठाने के काम को करता रहा. उस लड़के ने कचरा उठाकर दो-चार  सौ रूपये कमा लिये और भोकने वाले भोकते रहे गये.
तो दोस्तों, यहीं सोच हम हमारी जिंदगी में अपनाये तो हम कभी पिछे नहीं रहगे. और हम अपना काम लोगो की सोच को ध्यान में रखकर नहीं करेगे तो पुरे करेगे. वो कहावत हैं न  ”सुनो सब की करो मन की ”
source from-http://www.gyanipandit.com

Saturday, 3 September 2016

Eid-al-Adha (Feast of Sacrifice) in Saudi Arabia

Eid-al-Adha (Feast of Sacrifice) in Saudi Arabia

Eid al-Adha is an Islamic festival to commemorate the willingness of Ibrahim (also known as Abraham) to follow Allah's (God's) command to sacrifice his son Ishmael. Muslims around the world observe this event.
At Eid al-Adha, many Muslims make a special effort to pray and listen to a sermon at a mosque. They also wear new clothes, visit family members and friends and may symbolically sacrifice an animal in an act known as qurbani. This represents the animal that Ibrahim sacrificed in the place of his son.
In some traditionally Muslim countries, families or groups of families may purchase an animal known as udhiya, usually a goat or sheep, to sacrifice, but this is not common or legal in many parts of Australia, Canada, New Zealand, the United Kingdom, the United States or many other countries. In these countries, groups of people may purchase a whole carcass from a butcher or slaughterhouse and divide it amongst themselves or just buy generous portions of meat for a communal meal on Eid-al-Adha. People also give money to enable poorer members of their local community and around the world to eat a meat-based meal.
In the period around Eid al-Adha, many Muslims travel to Mecca and the surrounding area in Saudi Arabia to perform the Hajj pilgrimage. Package holidays are organized from many countries. Muslims may plan and save for many years to enable them to take part in this event, which is one of the five pillars of Islam.
Ibrahim, known as Abraham in the Christian and Jewish traditions, was commanded by God to sacrifice his adult son. He obeyed and took Ishmael (Ismail or Ismael) to Mount Moriah. Just as he was to sacrifice his son, an angel stopped him and gave him a ram to sacrifice in place of his son. Some people dispute that the son of sacrifice was Isaac (Isḥāq). Regardless, these events are remembered and celebrated at Eid al-Adha.
The Islamic calendar is based on observations of the Moon and the length of a particular month can vary between years. For this reason, predicted dates of Eid al-Adha may be corrected at the start of the month of Dhul Hijja. This is around 10 days before the start of the festival.

हीरा मंडी पाकिस्तान की ‘बदनाम’ गली !!

हीरा मंडी पाकिस्तान की ‘बदनाम’ गली !!

पाकिस्तान के लाहौर की एक मंडी। नाम है ‘हीरा मंडी’। ये जगह कभी इस इलाके की शान थी, लेकिन आज बदनाम है। बदनाम है प्रॉस्टिट्यूशन के लिए। यहां रात होते ही रौनक छा जाती है और चारों ओर दलाल और सेक्स वर्कर्स को ढूंढते कस्टमर नजर आते हैं। मजबूरी में सेक्स वर्कर बनने के लिए अलावा यहां कई महिलाएं ऐसी भी हैं, जिनकी फैमिलीज कई सालों से इसमें इन्वॉल्व हैं।
 इस इलाके में कभी सिख राजा हुआ करते थे।
 उन्हीं में से एक थे रंजीत सिंह। इनकी कोर्ट में एक मंत्री के बेटे थे हीरा सिंह।
 ये इलाका उन्हीं के नाम पर बसा था। बाद में इसे हीरा मंडी कहा जाने लगा।
 हीरा सिंह शेर सिंह की कोर्ट में खुद भी मंत्री थे।
 हीरा मंडी कभी रिच कल्चर, तहजीब और मेहमान नवाजी के लिए जानी जाती थी।
 उर्दू भाषा और लिटरेचर को पॉपुलर करने में तवायफों का बड़ी भूमिका हुआ करती थी।
 मुगल काल में इन इलाकों में जो तवायफें रहा करती थीं वे म्यूजिक, सिंगिंग और डांस के हाई कल्चर को रिप्रजेंट करती थीं।
 कहा जाता है कि होने वाले शासकों को केयर के लिए इन तवायफों के पास भेजा जाता था।
 तवायफें उनको हेरीटेज की जानकारी और कल्चर सिखाती थीं।
 हीरा मंडी को शाही मोहल्ला भी कहा जाता है।
 पुराने लाहौर में हीरा मंडी के अलावा रोशनाई गेट, बादशाही मस्जिद, लाहौर फोर्ट और हुजूरी बाग हैं।
ब्रिटिश शासन के दौरान बदल गया इस जगह का रूप
 बताया जाता है कि ब्रिटिश शासनकाल के दौरान इन इलाकों का रूप ही बदल गया।
 ब्रिटिशर्स ने तवायफों को प्रॉस्टिट्यूट्स का नाम दिया। इसके बाद से ये इलाके बदनाम होते चले गए।
 दरअसल, ब्रिटिश आर्मी के सोल्जर्स मन बहलाने के लिए यहां आने लगे।
 उन्होंने तवायफों को प्रॉस्टिट्यूशन करने पर मजबूर किया और लंबे समय बाद ये जगह इसके लिए बदनाम हो गई।
 यहां कई महिलाएं एेसी हैं, जो केवल मुजरा ही करती हैं। इन्हें तवायफ कहा जाता है।
 इनका दावा है कि वे प्रॉस्टिट्यूशन की गंदगी में नहीं उतरीं।
 ये वो महिलाएं हैं, जिनकी फैमिलीज सदियों से ये काम कर रही हैं।
 इनका कहना है कि वे रात को 11-1 के बीच ही मुजरा करती हैं और इन्हें तवायफ कहलाने पर प्राउड फील होता है।
 ये प्रॉस्टिट्यूट्स का विरोध करती हैं और इस काम को गंदा कहती हैं।

Sunday, 28 August 2016

मक्का इस्लाम का पवित्रतम शहर

मक्का (शहर)

 इस्लाम का पवित्रतम शहर है जहाँ पर काबा तीर्थ और मस्जिद-अल-हरम (पवित्र या विशाल मस्जिद) स्थित है। मक्का शहर वार्षिक हज तीर्थयात्रा, जो इस्लाम के पाँच स्तंभों में से एक है के लिये प्रसिद्ध है। हर साल करीब 40 लाख हजयात्री मक्का आते हैं।
इस्लामी परंपरा के अनुसार मक्का की शुरुआत इश्माइल वंश ने की थी। 7 वीं शताब्दी में, इस्लामी पैगम्बर मुहम्मद ने शहर में जो तब तक, एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केन्द्र था मे इस्लाम की घोषणा की और इस शहर ने इस्लाम के प्रारंभिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। सन 966 से लेकर 1924 तक, मक्का शहर का नेतृत्व स्थानीय शरीफ द्वारा किया जाता था। 1924 मे यह सउदी अरब के शासन के अधीन आ गया। आधुनिक काल में, मक्का शहर के आकार और बुनियादी संरचना में एक महान विस्तार देखा गया है।
आधुनिक मक्का शहर सउदी अरब के मक्काह प्रांत की राजधानी है और, ऐतिहासिक हेजाज़ क्षेत्र में स्थित है। शहर की आबादी 1700000 (2008) के करीब है और यह जेद्दा से 73 किमी (45 मील) की दूरी पर एक संकरी घाटी में समुद्र तल से 277 मीटर (910 फीट) की ऊँचाई पर स्थित है।
अरबी के मूल अंग्रेजी लिप्यंतरण और अंग्रेजी शब्दकोशों में "मक्का" शब्द अत्यधिक इस्तेमाल किया जाता है, उनकी अंग्रेजी भाषा और साहित्य और अकादमिक लेखन में अंतरराष्ट्रीय संगठनों द्वारा। मक्का शहर के लिए प्राचीनतम नाम बक्काह (भी बाका, बाकाह्, बेक्का, आदि) क उपयोग किया जाता था। अरबी भाषा शब्द, इसकी व्युत्पत्ति की तरह है कि मक्का के अस्पष्ट है। व्यापक रूप से मक्का के लिए एक पर्याय माना जा रहा है, उसमें स्थित घाटी के लिए और अधिक विशेष रूप से जल्दी नाम कहा जाता है, जबकि मुस्लिम विद्वानों आम तौर पर यह उपयोग करने के लिए है कि शहर के पवित्र क्षेत्र में उल्लेख तुरंत चारों ओर से घेरे और Kaaba शामिल हैं।
औपचारिक शिक्षा तुर्क के अवधि में धीरे-धीरे विकसित होना शुरू हुआ था। इसमें सबसे बड़ा प्रयास जेद्दा के व्यापारी मुहम्मद अलि ज़ायनल रीदा द्वारा हुआ। वह मक्का में मदरसत अल-फलाह की 1911-12 में स्थापना की। इसके लिए कुल खर्च £400,000 ( ₹40,25,02,315 रुपये ) आए थे।
विद्यालय प्रणाली में मक्का में कई निजी और सार्वजनिक विद्यालय हैं, जो लड़कों और लड़कियों दोनों के लिए है। 2005 के अनुसार यहाँ कुल 532 निजी और सार्वजनिक विद्यालय लड़कों के लिए और अन्य 681 निजी और सार्वजनिक विद्यालय लड़कियों के लिए है। इसमें शिक्षा का माध्यम अरबी होता है और दूसरे भाषा के रूप में अंग्रेज़ी की शिक्षा दी जाती है। लेकिन कुछ विदेशी लोगों द्वारा बनाए गए विद्यालय में केवल अंग्रेज़ी को ही शिक्षा माध्यम के रूप में पढ़ाया जाता है। और यह लड़कों और लड़कियों को एक साथ बिठाते हैं, जबकि अन्य ऐसा नहीं करते हैं।
इसमें उच्च शिक्षा के लिए एक ही विश्वविद्यालय है, उम्म अल-क़ुरा विश्वविद्यालय, जिसे वर्ष 1949 में एक महाविद्यालय के रूप में बनाया गया था और 1979 में इसे विश्वविद्यालय बना दिया गया।

Saturday, 13 August 2016

अकबर का इतिहास /History of King Akbar

 अकबर का इतिहास ///

History of King Akbar

पूरा नाम   – अबुल-फतह जलाल उद्दीन मुहम्मद अकबर
जन्म   –  15 अक्तुबर, 1542.
जन्मस्थान   –   अमरकोट.
पिता Father of Akbar    हुमांयू
माता   –   नवाब हमीदा बानो बेगम साहिबा
शिक्षा   –   अल्पशिक्षित होने के बावजूद सैन्य विद्या में अत्यंत प्रवीण थे.
विवाह Wives of Akbar   –   रुकैया बेगम सहिबा, सलीमा सुल्तान बेगम सहिबा, मारियाम उज़-ज़मानि बेगम सहिबा, जोधाबाई राजपूत
संतान Son of Akbar  – जहाँगीर,


जलाल उद्दीन अकबर जो साधारणतः अकबर और फिर बाद में अकबर-एक महान के नाम से जाने जाते थे, वे 1556 से उनकी मृत्यु तक मुघल साम्राज्य के शासक थे. वे भारत के तीसरे और

अकबर  प्रारंभिक जीवन – History of King Akbar

1539-40 में चौसा और कन्नौज में होने वाले शेर शाह सूरी से युद्ध में पराजित होने के बाद मुघल सम्राट हुमायु पश्चिम की और गये जहा सिंध में उनकी मुलाकात 14 साल की हमीदा बानू बेगम जो शैख़ अली अकबर की बेटी थी, उन्होंने उनसे शादी कर ली और अगले साल ही जलाल उद्दीन मुहम्मद का जन्म 15 अक्टूबर 1542 को राजपूत घराने में सिंध के उमरकोट में हुआ (जो अभी पकिस्तान में है) जहा उनके माता-पिता को वहा के स्थानिक हिंदु राना प्रसाद ने आश्रय दिया.



और हुमायु के लम्बे समय के वनवास के बाद, अकबर अपने पुरे परिवार के साथ काबुल स्थापित हुए. जहा उनके चाचा कामरान मिर्ज़ा और अस्करी मिर्ज़ा रहते थे. उन्होंने अपनी पुरानी जवानी शिकार करने में, युद्ध कला सिखने में, लड़ने में, भागने में व्यतीत की जिसने उसे एक शक्तिशाली, निडर और बहादुर योद्धा बनाया. लेकिन अपने पुरे जीवन में उन्होंने कभी लिखना या पढना नहीं सिखा था. ऐसा कहा जाता है की जब भी उन्हें कुछ पढने की जरुरत होती तो वे अपने साथ किसी को रखते थे जिसे पढना लिखना आता हो. 1551 के नवम्बर में अकबर ने काबुल की रुकैया से शादी कर ली. महारानी रुकैया उनके ही चाचा हिंदल मिर्ज़ा की बेटी थी. जो उनकी पहली और मुख्य पत्नी थी. उनकी यह पहली शादी अकबर के पिता और रुकैया के चाचा ने रचाई थी. और हिंदल मिर्ज़ा की मृत्यु के बाद हुमायु ने उनकी जगह ले ली.
शेर शाह सूरी से पहली बार पराजित होने के बाद, हुमायु में दिल्ली को 1555 में पुनर्स्थापित किया और वहा उन्होंने एक विशाल सेना का निर्माण किया. और इसके कुछ ही महीनो बाद हुमायु की मृत्यु हो गयी. अकबर को एक सफल शक्तिशाली बादशाह बनाने के लिए अकबर के रक्षक ने उनसे उनके पिता की मृत्यु की बात छुपाई. और अंत में 14 फेब्रुअरी 1556 को सिकंदर शाह को पराजित कर अकबर युद्ध में सफल हुए और वही से उन्होंने मुघल साम्राज्य का विस्तार शुरू किया. कलानौर, पंजाब में बैरम खान द्वारा 13 साल के अकबर को वहा की राजगद्दी सौपी गयी, ताकि वे अपने लिए एक नया विशाल साम्राज्य स्थापित कर सके. जहा उन्हें “शहंशाह” का नाम दिया गया. बैरम खान ने हमेशा अकबर का साथ दिया.

Jalaluddin Muhammad Akbar :

अकबर एक बहादुर और शक्तिशाली शासक थे उन्होंने गोदावरी नदी के आस-पास के सारे क्षेत्रो को हथिया लिया था और उन्हें भी मुघल साम्राज्य में शामिल कर लिया था. उनके अनंत सैन्यबल, अपार शक्ति और आर्थिक प्रबलता के आधार पर वे धीरे-धीरे भारत के कई राज्यों पर राज करते चले जा रहे थे. अकबर अपने साम्राज्य को सबसे विशाल और सुखी साम्राज्य बनाना चाहते थे इसलिए उन्होंने कई प्रकार की निति अपनाई जिस से उनके राज्य की प्रजा ख़ुशी से रह सके. उनका साम्राज्य विशाल होने के कारण उनमे से कुछ हिंदु धर्म के भी थे, उनके हितो के लिए उसने हिंदु सम्राटो की निति को भी अपनाया और मुघल साम्राज्य में लागू किया. वे विविध धर्मो के बिच हो रहे भेदभाव को दूर करना चाहते थे. उनके इस नम्र स्वाभाव के कारण उन्हें लोग एक श्रेष्ट राजा मानते थे. और ख़ुशी-ख़ुशी उनके साम्राज्य में रहते थे. हिन्दुओं के प्रति अपनी धार्मिक सहिष्णुता का परिचय देते हुए उन्होंने उन पर लगा ‘जजिया’ नामक कर हटा दिया.अकबर में अपने जीवन में जो सबसे महान कार्य करने का प्रयास किया, वह था ‘दिन – ए – इलाही’ नामक धर्म की स्थापना. इसे उन्होंने सर्वधर्म के रूप में स्थापित करने की चेष्टा की थी. 1575 में उन्होंने एक ऐसे इबादतखाने (प्रार्थनाघर) की स्थापना की थी, जो सभी धर्मावलम्बियों के लिए खुला था, वो अन्य धर्मों के प्रमुख से धर्म चर्चायें भी किया करते थे.
साहित्य एवं कला को उन्होंने बहुत अधिक प्रोत्साहन दिया. अनेक ग्रंथो, चित्रों एवं भवनों का निर्माण उनके शासनकाल में ही हुआ था. उनके दरबार में विभिन्न विषयों के लिए विशेषज्ञ नौ विद्वान् थे, जिन्हें ‘नवरत्न’ कहा जाता था.
अकबर को भारत के उदार शासकों में गिना जाता है. संपूर्ण मध्यकालीन इतिहास में वो एक मात्र ऐसे मुस्लीम शासक हुए है जिन्होंने हिन्दू मुस्लीम एकता के महत्त्व को समझकर एक अखण्ड भारत निर्माण करने की चेष्टा की.
भारत के प्रसिद्ध शासकों में मुग़ल सम्राट अकबर अग्रगण्य है,वो एकमात्र ऐसे मुग़ल शासक सम्राट थे, जिन्होंने हिंदू बहुसंख्यकों के प्रति कुछ उदारता का परिचय दिया,
धीरे-धीरे भारत में मुघल साम्राज्य का विस्तार होने लगा और स्थिर आर्थिक परिस्थिती राज्य में आ रही थी. अकबर कला और संस्कृति के बहोत बड़े दीवाने थे इसलिए उन्होंने अपने शासन काल में इन दोनों के विकास पर ज्यादा से ज्यादा ध्यान दिया. उन्हें साहित्य का भी बहोत शौक था इसलिए उन्होंने 2400 खंड लिखवाए और उन्हें ग्रंथालय में प्रकाशित भी किया. उनकें साम्राज्य में कई भाषा के सैनिक थे जैसे की हिंदु, संस्कृत, ग्रीक, पर्शियन इत्यादि. अकबर ने हिंदु-मुस्लिम सम्प्रदायों के बिच की दुरिया कम करने के लिए दिन-ए-इलाही नामक धर्म की स्थापना की. उनका दरबार सबके लिए हमेशा से ही खुला रहता था. अकबर ने अनेक फारसी संस्कृति से जुड़े चित्रों को अपनी दीवारों पर बनवाया. अपने आरंभिक शासन काल में अकबर की हिन्दुओ के प्रति सहिष्णुता नहीं थी, किन्तु समय के साथ-साथ उसने अपने आप को बदला और हिन्दुओ सहित अन्य धर्मो में भी अपनी रूचि दिखाई. अकबर ने हिंदु राजपूत राजकुमारी से वैवाहिक भी किया. उनकी एक राणी जोधाबाई राजपूत थी. अकबर के दरबार में अनेक हिंदु दरबारी, सैन्य अधिकारी व सामंत थे. उसने धार्मिक चर्चाओ व वाद-विवाद कार्यक्रमों की अनोखी श्रुंखला आरम्भ की थी, जिसमे मुस्लिम आलिम लोगो की जैन, सीख, हिंदु, नास्तिक, पुर्तगाली एवम् कैथोलिक इसाई धर्मशास्त्रियो से चर्चा हुआ करती थी.
मुघल साम्राज्य में निच्छित ही भारतीय इतिहास को प्रभावित किया था. उनकी ताकत और आर्थिक स्थिति सतत तेज़ी से बढती जा रही थी. अकबर ने अपने आर्थिक बल से विश्व की एक सबसे शक्तिशाली सेना बना रखी थी, जिसे किसी के लिए भी पराजित करना असंभव सा था. अकबर ने जो लोग मुस्लिम नहीं थे उनसे कर वसूल करना भी छोड़ दिया और वे ऐसा करने वाले पहले सम्राट थे, और साथ ही जो मुस्लिम नहीं है उनका भरोसा जितने वाले वे पहले सम्राट थे. अकबर के बाद, सफलता से उनका साम्राज्य उनका बेटा जहागीर चला रहा था.
मृत्यु – Akbar Death :
3 अक्टूबर 1605 अकबर को पेचिश की बीमारी हुई, जिस से वे कभी ठीक नहीं हो पाए. उनकी मृत्यु 27 अक्टूबर 1605 को हुई, उसके बाद आगरा में उनकी समाधी बनाई गयी.

अकबर मुघल साम्राज्य के महान और बहादुर सम्राटो में से एक थे. उन्होंने कभी मुस्लिम और हिंदु इन दो धर्मो में भेदभाव नहीं किया. और अपने साम्राज्य में सभी को एक जैसा समझकर सभी को समान सुविधाए प्रदान की. इतिहास में झाककर देखा जाए तो हमें जोधा-अकबर की प्रेम कहानी विश्व प्रसिद्द दिखाई देती है. जलाल उद्दीन मुहम्मद अकबर अपनी प्रजा के लिए किसी भगवान् से कम नहीं थे. उनकी प्रजा उनसे बहोत प्यार करती थी. और वे भी सदैव अपनी प्रजा को हो रहे तकलीफों से वाकिफ होकर उन्हें जल्द से जल्द दूर करने का प्रयास करते. इसीलिए इतिहास में शहंशाह जलाल उद्दीन मुहम्मद अकबर को एक बहादुर, बुद्धिमान और शक्तिशाली शहंशाह माने जाते है.

Wednesday, 3 August 2016

जेल में मौत की सजा काट रहे भारतीय कैदी को दिल दे बैठी विदेशी गर्ल

जेल में  मौत की सजा काट रहे भारतीय कैदी को दिल दे बैठी विदेशी गर्ल
 इंडोनेशिया की जेल में मौत की सजा का फरमान जारी करवा चुके भारतीय युवक को वहीं पर दिल दे बैठी एक विदेशी गर्ल|
ये फिल्मी कहानी नहीं, बल्कि जालंधर के नकोदर के रहने गुरदीप सिंह की है| गुरदीप ड्रग के धंधे की पहली डील में ही पकड़ा गया और मौत की सजा पाने के बाद जब जेल में था तो किसी फरिश्ते की तरह तेरह साल छोटी इंडोनेशियाई लड़की मारवती सामने आई| मारवती से शादी को उसने इस्लाम धर्म अपना लिया|
गुरदीप ने बताया कि मारवती का चचेरा भाई सुरयाजी हमारी बैरक में था| तीन हफ्ते बाद उसकी पत्नी उसका हाल जानने आई थी| जब सुरयाजी दूसरी जेल में शिफ्ट हो गया| कुछ हफ्ते बाद एक लड़की जेल में मुझसे मिलने आई| उसने बताया कि वह सुरयाजी की कजन है| भाभी ने आपका हाल पूछने को बोला था|
गुरदीप ने बताया कि मैने उससे कुछ सामान मंगवाने के लिए मदद मांगी| दोस्ती के बाद प्यार हुआ और मैंने पूछ लिया कि क्या मुझसे शादी करोगी| मारवती ने कहा कि गुरदीप से पहली नजर में प्यार हो गया था| मेरे भाई दूसरी जेल में थे| भाभी ने कहा था कि अगर हो सके तो गुरदीप का हाल जानने चली जाया कर|
मारवती ने बताया कि माता-पिता और भाई से अपने दिल की इच्छा जाहिर की| उन्होंने मना कर दिया| एक साल मैं लगातार परिवार को मनाने में लगी रही, फिर उनकी मर्जी के बगैर 17 नवंबर 2005 में हमने जेल में ही शादी कर ली| उस समय हफ्ते में चार दिन जेल वाले मारवती से मिलने देते थे|
गुरदीप ने बताया कि मारवती पिछले 11 सालों से वह मुझे बचाने के लिए अदालतों के चक्कर काट रही है, मानवाधिकार संगठनों से मिलना और सरकार के उच्च अधिकारियों से मेरी सजा माफी के लिए दिन-रात कोशिश कर रही है| मारवती ने भी जेल से एक किमी दूर किराए पर घर ले लिया था|

Thursday, 28 July 2016

3000 से ज्यादा पुलिसवाले और 21 IPS ऑफिसर इस डॉन के पीछे हैं

दावूद के FAN की अनसुनी कहानी,

3000 से ज्यादा पुलिसवाले और 21 IPS ऑफिसर इस डॉन के पीछे हैं लेकिन इस डॉन का कहना है मुझको पकड़ना मुश्किल ही नामुमकिन है .रेगिस्तान से चंबल तक इस डॉन की तलाश है. इस डॉन के डर का सिक्का राजस्थान , मध्यप्रदेश, हरियाणा और यूपी में चलता है. इस डॉन की कहानी जान आपके भी होश उड़ जाएंगे. आगे की स्लाइड्स में जानें इस डॉन की दिल दहला देने वाली दास्तां!
आनंदपाल को पुलिस हिरासत से फरार हुए 9 महीने हो चुके हैं. राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा और यूपी की पुलिस आनंदपाल की तलाश में हैं लेकिन आनंदपाल कहां है किसी को पता नहीं है.
आनंदपाल जितना खतरनाक डॉन है उसकी कहानी उतनी ही फिल्मी और दिलचस्प है. बरसों पहले आई संजय दत्त की फिल्म वास्तव की कहानी आनंदपाल की जिंदगी से मिलती जुलती है. जिस तरह संजय दत्त फिल्म में गुनाहों के दलदल में फंसते हैं उसी तरह असल जिंदगी में आनंदपाल भी जुर्म की दुनिया में घुसता है.
पढ़ाई में तेज, फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाला, बीए बीएड की डिग्री लेने वाला आनंदपाल टीचर बनना चाहता था. जब वो टीचर नहीं बन सका तो राजनीति में आ गया. आनंदपाल ने पंचायत समिति का चुनाव भी लड़ा. लेकिन वो चुनाव हार गया.
राजस्थान में नागौर के छोटे से गांव सावरदा से ताल्लुक रखने वाला आनंद पाल भी परिवार का नाम रोशन करने की इच्छा रखता था लेकिन उम्मीद से ज्यादा पाने और राजनैतिक दुश्मनी ने उसे जुर्म की दुनिया में ला खड़ा किया. उसने सबसे पहला जुर्म ही हत्या कर अंजाम दिया. इसके बाद पुलिस और दुश्मन गैंग के बदमाश जब पीछे पड़ गए तो आनंदपाल राजस्थान का सबसे बड़ा गैंगस्टर बन गया.
38 साल के हो चुके आनंदपाल ने सबसे पहले राजस्थान के हिस्ट्रीशीटर और बदमाशो को मारा उसके बाद उसने अपनी एक गैंग बनाई और फिर उसके वो राजस्थान की राजनीति में घुस गया. कई नेताओं के मर्डर , अपहरण, लूट जैसे उस पर 3 दर्जन से ज्यादा संगीन मामले दर्ज है. आनंदपाल के पास एके 47 जैसे कई आधुनिक हथियार भी हैं. आनंद ने 2006 में डीडवाना में जीवनराम गोदारा हत्याकांड को अंजाम दिया था उसी दौरान चर्चा वो में आया. साल 2012 में जयपुर के पास आनंदपाल गिरफ्तार हुआ तो उसके पास बुलेटप्रुफ जैकेट और एके 47 राइफल मिली थी लेकिन आनंद 3 सितंबर 2015 में पुलिस पर हमला कर भाग निकला.
देश के मोस्ट वांटेड डॉन दाऊद इब्राहिम को आनंदपाल अपना हीरो मानता है. दाऊद को देखकर ही आनंदपाल जुर्म की दुनिया में आया. उसकी तरह चलने का तरीका शानदार कपड़े, चश्मा लगाने का स्टाइल सब कुछ दाऊद की तरह.
आनंदपाल को दाऊद पर लिखी किताबें पढ़ने का भी शौक है. खुद को दाऊद की तरह दिखाना और कहलवाना पसंद करता है आनंदपाल. जैसे फिल्म वास्तव में गैंगस्टर बने संजय दत्त को उसकी मां गोली मार देती है वैसे ही असली डॉन आनंदपाल की मां भी कहती है कि उसे अगर अपने बेटे का पता चलेगा तो पुलिस के पास सबसे पहले वो ही जाएगी.
आनंदपाल कितना कुख्यात गैंगस्टर है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उसकी तलाश में तीन हजार से ज्यादा पुलिस और 21 आईपीएस अफसर लगे हुए हैं. इतनी बड़ी फौज मिलकर भी आनंदपाल की परछाई को छूने में भी नाकाम रही है
हाल ही में आनंदपाल का साथी पंकज गुप्ता पुलिस की स्पेशल टीम के हत्थे चढ़ा था उसी की निशानदेही पर राजस्थान और मध्य प्रदेश की पुलिस ने ग्वालियर में एक मकान पर छापा मारा लेकिन आनंदपाल तब तक यहां से निकल चुका था.
खबर है कि अब आनंदपाल चंबल के बीहड़ों में छिपा हुआ है, पुलिस की कई टीमें चम्बल में उसकी तलाश कर रही हैं आनंदपाल पिछले साल 3 सितम्बर को डीडवाना इलाके में पेशी से लोटते समय फिल्मी स्टाइल में फरार हो गया था. आनंदपाल को छुड़ाने के लिए कई पुलिसवालों को गोली भी मारी गई थी.
डीडवाना के पास ये वही परबतसर जगह है जहां से आनंदपाल अपने साथियों की मदद से फरार हुआ था. आनंदपाल के फरारी कांड में अब तक सात लोग पकड़े जा चुके हैं. और आनंदपाल पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया है.
आनंदपाल की तलाश के बीच पुलिस के लिए बड़ा कामयाबी ये रही है कि उसकी करीबी और लेडी डॉन अनुराधा को एक पुराने मामले में कोर्ट ने दो साल कैद की सजा सुनाई है. आनंदपाल के कई साथियों को स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप यानी एसओजी पकड़ चुकी है लेकिन आनंदपाल तक पुलिस अब तक नहीं पहुंच पाई है.

Tuesday, 26 July 2016

कानून से खिलवाड़ किया तो दो घंटे में ही सबक सिखा देंगे !!!!

कानून से खिलवाड़ किया तो दो घंटे में ही सबक सिखा देंगे !!!!
अपने बयानों को लेकर हमेशा सुर्ख़ियों में बने रहने वाले उत्तर प्रदेश के सपा मंत्री एवं नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां कानून व्यवस्था को लेकर बेहद गंभीर दिखे। उन्होंने विरोधियों को भी ललकारा। बोले, छह महीने तो बहुत हैं अगर किसी ने कानून से खिलवाड़ किया तो दो घंटे में ही सबक सिखा दिया जाएगा। भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि इसके नेताओं का मकसद विकास नहीं दंगे कराना रहता है।
आजम खां ने हौसला पोषण योजना के शुभारंभ के मौके पर पहले मुजफ्फरनगर और कैराना का जिक्र किया। बोले, मुजफ्फनगर में भाजपा ने ही दंगा कराया। इसके बाद कैराना का सहारा लेकर पूरे प्रदेश में दंगा कराने का मंसूबा बनाया। इतना कहकर आजम खां ने सख्त लहजे में कहा है कि कान खोलकर सुन लो। किसी ने दंगा किया तो सख्ती से निपटा जाएगा। क्योंकि दंगा करने वालों को न कोई धर्म होता है और न ही दंगाई किसी के दोस्त होते हैं।
उन्होंने कहा, उन्हें दंगा नहीं अमन-चैन चाहिए। साथ ही विरोधियों को भी ललकारा। उन्होंने कहा कि कुछ लोग कह रहे हैं कि सरकार सिर्फ छह महीने की है। ऐसा कहने वालों- अगर कोई गड़बड़ी की तो सोच लो। छह महीने तो बहुत हैं, दो घंटे में भी सबक सिखा दिया जाएगा। सपा की सरकार फिर आएगी। कहा, उनकी सरकार में न किसी की चेन खिंची और न ही किसी की हत्या होती है। महिलाएं भी सड़क पर महफूज हैं।


Monday, 25 July 2016

अरबपति हीरा व्यापारी ढोलकिया का बेटा खोज रहा है नौकरी

अरबपति हीरा व्यापारी ढोलकिया का बेटा खोज रहा है नौकरी!!!!
 साल 2014 में अपने कर्मचारियों को दीवाली के मौके पर कार, फ्लैट्स और ज्वैलरी गिफ्ट में देकर चर्चा में आए सूरत के प्रसिद्ध हीरा व्यापारी सावजीभाई ढोलकिया एक बार फिर अनूठा काम कर चर्चा में आ गए हैं।

हीरा व्यवसायी व हरिकृष्णा एक्सपोर्ट के चेयरमैन सावजीभाई ने अपने बेटे को केरल भेजा है। बेटे को केरल भेजने के बारे में ढोलकिया ने बताया कि वे चाहते हैं कि उनका बेटा छोटी-मोटी नौकर कर अपना गुजारा करे। मैं चाहता हूं कि मेरे बेटे को धन की अहमियत का पता चले और जिंदगी में आने वाली चुनौतियां का सामना कैसे किया जाता है, ये भी वो सीखे।

उल्लेखनीय है कि अपने कर्मचारियों को डायमंड इंजीनियर कहने वाले ढोलकिया ने 1991 में अपने तीनों भाईयों के साथ मिलकर एक करोड रूपए की लागत से बिजनेस शुरू किया था। वर्तमान में इनका बिजनेस छह हजार करोड़ के लगभग है। कक्षा चार तक पढ़ाई करने वाले सोवजीभाई ने 12 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़ दी थी।


Sunday, 24 July 2016

डॉ जाकिर नाइक का ऐलान, देश के 10 बड़े चैनलों पर करेंगे मानहानि का मुकदमा

डॉ जाकिर नाइक का ऐलान, देश के 10 बड़े चैनलों पर करेंगे मानहानि का मुकदमा


मुंबई: प्रसिद्ध इस्लामी विद्वान डॉ जाकिर नाइक ने मदीना से स्काइप के जरिए प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया और मीडिया के सवालों का खुलकर जवाब दिया। उन्होंने मीडिया में खुद पर लगाए जा रहे आरोपों पर सफाई पेश करते हुए कहा कि देश के 10 बड़े चैनलों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने वाला हूँ। उन्होंने कहा कि मीडिया ने मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश करने और इसे पृष्ठभूमि से बाहर ले जा कर दिखाया। मेरी भाषणों के साथ छेड़छाड़ की गई।
डॉ नाइक ने सभी तरह के आतंकवादी घटनाओं की निंदा करते हुए कहा कि यदि सकारात्मक सोच और किसी पूर्वाग्रह के बिना मेरे बयानों का विश्लेषण करेंगे तो पाएंगे कि शांति का पैग़म्बर हूँ।
ओसामा को आतंकवादी नहीं मानने वाले बयान से संबंधित एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह बयान 1998 का है, जब 9/11 नहीं हुआ था और जो बयान दिखाया गया है, उसके साथ भी छेड़छाड़ की गई। उन्होंने कहा कि अमेरिका में मैंने कहा था कि जो कोई भी बेगुनाहों को मार देता है, वह गलत है। मैं जॉर्ज बुश को आतंकवादी बताया था। इसके अलावा भी उन्होंने मीडिया के कई सवालों का जवाब दिया।

संतरे बेच कराया स्कूल का निर्माण,हौसला इंसान की सबसे बड़ी ताक़त

संतरे बेच कराया स्कूल का निर्माण,हौसला इंसान की सबसे बड़ी ताक़त 
 हजब्बा का जन्म एक बेहद गरीब परिवार में हुआ था। शुरू में उन्होंने बीड़ी बनाने का काम किया। पर कहते हैं कि हौसला इंसान की सबसे बड़ी ताक़त है। हजब्बा ने तब संतरा बेचना शुरू किया तो लगा कि जैसे उनके जीवन जीने का मकसद ही बदल गया। हजब्बा कहते हैं
हजब्बा कहते हैं, “मैं कभी स्कूल नहीं गया। बचपन में ही ग़रीबी ने मुझे संतरे बेचने के लिए मजबूर कर दिया। एक दिन मैं दो विदेशियों से मिला, जो  कुछ संतरे खरीदना चाहते थे। उन्होने मुझसे अंग्रेजी में संतरे की कीमत पूछी, लेकिन मैं उन लोगों से बातचीत करने में असमर्थ था। वह दोनो मुझे छोड़ कर चले गए। मैं इस घटना के बाद अपमानित महसूस कर रहा था और मुझे शर्म भी आ रही थी की सिर्फ़ भाषा की वजह से उन्हें जाना पड़ा।”
हजब्बा नही चाहते थे कि कोई दूसरा भी इस अनुभव से गुजरे। इस वाकये के बाद उन्हें जीवन का मकसद मिल गया। उस दिन हजब्बा ने यह संकल्प लिया कि अपने गांव के ग़रीब बच्चों के लिए एक स्कूल का निर्माण करा कर रहेंगे।
उनकी पत्नी मामूना अक्सर शिकायत करती थी कि उनके खुद के तीन बच्चे हैं, इसके बावजूद वह सारा पैसा दूसरों के लिए क्यों खर्च कर रहे हैं। लेकिन बाद में उन्होंने भी हजब्बा का सहयोग करना शुरू कर दिया।
1999 में हजब्बा के सपने ने धीरे-धीरे पंख फैलाना शुरू कर दिया। उन्होने अपने गांव में एक मदरसे की शुरुआत की। जब यह स्कूल शुरू हुआ था तो सिर्फ़ 28 छात्र थे।
हालांकि बाद में जब छात्रों की संख्या बढ़ने लगी, हजब्बा को लगा कि इस मदरसे को अब बेहतर स्कूल में तब्दील करना होगा। इसलिए वह खुद के जोड़े हुए एक-एक पाई उस स्कूल की इमारत और भविष्य की पीढ़ियों के लिए उचित शिक्षा के लिए जमा करने लगे।
2004 में हजब्बा ने स्कूल के लिए एक ज़मीन का टुकड़ा खरीदा, लेकिन इतना काफ़ी नही था। उन्हें यह महसूस होने लगा कि उन्होंने अभी तक जो भी पूंजी जमा की है, वह स्कूल के भवन के निर्माण के लिए काफ़ी नही है। तब विवश होकर हजब्बा ने उद्योगपतियों और नेताओं से मदद की गुहार लगाई।
वह अपना अनुभव बताते हुए कहते हैं “एक बार में पैसों के लिए एक बहुत धनी आदमी के पास गया, लेकिन उसने मेरी मदद करने की बजाय मुझ पर अपने पालतू कुत्ते छोड़ दिए।”
दृढ़ निश्चय के धनी हजब्बा हारने वालों में से नही थे। धीरे-धीरे उन्होंने इतने पैसे इकट्ठा कर लिए, जिसकी बदौलत ज़मीन पर एक छोटे से प्राथमिक विद्यालय का निर्माण किया जा सके।
उस वक़्त मीडिया ने भी रुझान दिखाना शुरू किया। सबसे पहले एक कन्नड़ अखबार ‘होसा दिगणठा’ ने हजब्बा की कहानी प्रकाशित की। जल्द ही उसके बाद, सीएनएन आईबीएन ने हजब्बा को ‘अपने असली हीरो’ पुरस्कार के लिए नामित किया। और स्कूल के निर्माण के लिए 5 लाख रुपए नगद पुरस्कार प्रदान किया।
जल्द ही हर तरफ से मदद आने लगी। स्कूल को मान्यता भी मिल गई। आज यह स्कूल गांव के 1.5 एकड़ जमीन पर तैयार है। साथ ही यह प्राथमिक स्कूल अब माध्यमिक स्कूल में तब्दील हो चुका है।
इस सफ़र के बारे मे हजब्बा कहते हैं “मेरा कर्तव्य इस स्कूल का निर्माण कराना था। अब इसे मैनें सरकार को दे दिया है और वही अब इसका संचालन करती है। यह सिर्फ़ मुसलमानो के लिए नहीं है। यहां हर धर्म का बच्चा पढ़ता है।”
हजब्बा वाकई प्रशंसा के पात्र हैं। जब स्कूल का निर्माण हो गया, तब एक प्रस्ताव रखा गया था कि इस स्कूल का नाम हजब्बा के नाम पर रखा जाए, लेकिन वह सुर्ख़ियों में नही आना चाहते थे।
हजब्बा की कहानी यही ख़त्म नहीं होती, अब उन्होंने अपने गांव में एक सरकारी कॉलेज का निर्माण कराने की योज़ना बनाई है। इसके लिए उन्होंने काम भी शुरू कर दिया है

Wednesday, 20 July 2016

कश्मीर में पेलेट गन्स प्रदर्शनकारियो के साथ साथ इंसानियत को भी कर रही घायल

कश्मीर में पेलेट गन्स प्रदर्शनकारियो के साथ साथ इंसानियत को भी कर रही घायल

 हिजबुल आतंकी बुरहान वाणी की मौत के बाद कश्मीर में लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे है. प्रदर्शनकारी सुरक्षाबलों पर पथराव कर रहे है, थानों को जला रहे है. कश्मीर में यह सिलसिला पिछले एक हफ्ते से जारी है. प्रदर्शन में हुई हिंसा में अब तक 36 लोग मारे जा चुके है वही 1500 लोग घायल है. बुरहान वाणी के बाद घाटी में जिस चीज की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है वो है पेलेट गन्स.
कश्मीर में हो रहे प्रदर्शन को रोकने के लिए सुरक्षाबल पेलेट गन्स का इस्तेमाल कर रहे है. पेलेट एक तरह के छर्रे होते है जो दुश्मन को टारगेट करके मारे जाते है. यह छर्रे टारगेट के शरीर में घुस जाते है. इन छर्रों से किसी की जान जाने का कोई खतरा नही है. शरीर में घुसने के बाद केवल सर्जरी से इनको निकला जा सकता है. पेलेट से दिए गए घाव को ठीक होने में 2 से 3 हफ्तों का समय लगता है
श्रीनगर के एक अस्पताल में एक 5 साल के बच्चे की आँख में छर्रे लगे हुए है. घायल बच्चा राजू के पिता सवाल करते है की इस बच्चे की क्या गलती है. क्या इन सब की जरुरत थी? वही एक 17 साल के युवक की आँखों की रौशनी जा चुकी है. यह भी सुरक्षाबलों की पेलेट गन का शिकार हुआ था. अगर आप इन पेलेट गन से घायल हुए लोगो की तस्वीर देख ले तो आपके रोंगटे खड़े हो जायेगे. अगर निर्दोष लोग भी इस तरह सुरक्षाबलों का शिकार बनेगे तो उनमे इनके प्रति और नफरत बढ़ेगी.

Sunday, 3 July 2016

Saudi Arabia Eid Celebration Saudi Arabia Eid Celebration

Eid ul-Fitr is a festival that is celebrated with immense splendor in Saudi Arabia. Saudis will beautify their houses and prepare lavish meals for friends and family. The entire country gets occupied in untainted celebrations during Eid. The countless Saudi Arabia events & festivals include the Eid ul-Adha and Eid ul-Fitr festivals.
Eid celebrations in Saudi Arabia may fluctuate culturally depending upon the province, but one universal thread in every celebration is that the hospitable traditions and generosity of the Saudi citizens become quite noticeable during Eid. First, it is general Saudi custom for families to collect at the patriarchal home following the Eid prayers. Prior to the special Eid food is served, little children will stand in front of every adult member of family who distribute Riyals (Saudi currency) to the kids. Members of Family will also usually have an occasion where they will give out gift packs to the children. These packs are often marvelously decorated and are full of toys and candies.
Even numerous shopkeepers will display their generosity at Eid giving free Eid presents with every purchase. For instance, during Eid, numerous of the chocolate outlets will give every customer who buys a range of candies a complimentary crystal candy plate with all purchase.
In the mood of Eid, several Saudis go to great length to show their generosity and kindness. It is ordinary for even absolute strangers to address one another indiscriminately, even by occupants of motor vehicle waiting at signals. Sometimes even gifts and toys are given to children by absolute strangers.
It is also conventional in some regions for Saudi gentleman to go and purchase huge quantities of rice and other stuffs and then anonymously leave them at the gate of the less-fortunate. moreover, in some region in the central of Saudi Arabia, for example, Al Qassim, it's a frequent tradition that at the Eid's morning and subsequent to the Eid prayer natives will put huge rugs on one of lanes of their locality and every household will organize a large serving of food where all neighbors will share foods, it's also a general practice that citizens will exchange places to endeavor more than one type of meal.

Eid Ul Fitr Islamic Tradition

Eid-ul-Fitr marks the end of holy month of fasting, the Ramadhan. Eid-ul-Fitr is a celebration concluding the Islamic blessed month of Ramadan, in which Muslims are required to fast in all days of Ramadhan from dawn to dusk, refraining from beverages, foods, assisting the underprivileged and engaging in some kind of community services. The advantages of this form of fasting helps in strengthening and increasing moral character, appreciating the everyday blessings of food and beverages, and sympathizing with the person who are less fortunate or underprivileged. This joyful and blissful day is celebrated to give thanks to Almighty for his blessings in the holy month of Ramadhan. Muslim grace with presence at the congregational prayer service that held in the morning.
As per Islamic tradition Muslims of all age group wear new clothes, cook some delicious and tasty food, and invite relative, friends and neighbors to celebrate the auspicious day with them. Fasting in Ramadhan encourages sympathy for needy and hungry and motivates Muslims to donate very generously to all underprivileged.  Fasting has to do with aspects of fast which expresses many basic values of Muslim community such as charity, empathy for poor and needy persons, steadfastness, worship, patience etc. There are lots of things which revolve around this festivity. Fasting is believed by some scholars to praise fundamental distinctions and lauding the power of religious realm, while admitting the subordination of physical realm.  It also instructs Muslims to stay away from the worldly life and desires and to only focus on the Almighty God and thank for blessings received. This is a rejuvenation of this religion and creates an even stronger bond between individual person and the Almighty God. After the end of this holy month of Ramadhan, is a vast and big merriment of Eid-ul-Fitr.
Socialization is one such thing that is required in every society, and for the promotion of mutual understanding and harmony. It is necessary for healthy and sound social life as it motivates people to live their life in cohesive bond. In addition, religious gathering in festivals is the most effective way of doing so. Religious gathering is different from simple gathering as religious gathering is called as gathering plus. Eid-ul-Fitr gives color of sanctity and harmony among the people and conveys message in its own sense

Sunday, 26 June 2016

हाजी मस्तान: मुम्बई अंडरवर्ल्ड का सबसे पहले और सबसे ताक़तवर डॉन की कहानी-

हाजी मस्तान: मुम्बई अंडरवर्ल्ड का सबसे पहले और सबसे ताक़तवर डॉन की कहानी-


एस. हुसैन जैदी साहब की मुम्बई अंडरवर्ल्ड पर लिखी किताब ‘डोंगरी से दुबई तक’ माफिया के इतिहास को सिलसिलेवार तरीके से दर्ज करने की पहली कोशिश है। इसमें हाजी मस्तान करीम लाला, वरदराजन, छोटा राजन, अबू सलेम जैसे कुख्यात रिरोहबाज़ो की कहानी तो है ही, लेकिन इन सब के ऊपर एक ऐसे इंसान की कहानी है, जो अपने पिता के पुलिस विभाग में होने के बावजूद माफिया का बेताज बादशाह बना और पूरी मुम्बई पर राज़ किया और शायद आज भी कर रहा है।
जब भी किसी माफिया गैंग या डॉन की बात चलती है तो सबके ज़हन में जो सबसे पहला नाम आता है वो है मुम्बई अंडरवर्ल्ड का डॉन दाऊद इब्राहीम, लेकिन ये बात कम ही लोग जानते हैं की जब माफिया सरगनाओं ने मुम्बई(बम्बई) में अपनी ज़़डे जमाना शुरू कर दिया था तब तो दाऊद ने गुनाहों की इस सरजमीं पर अपना पैर भी नहीं रखा था…तो कौन था वो जिसने देश की आर्थिक नगरी को खौफ और आतंक की नगरी बनाने की शुरूआत की?


एस. हुसैन जैदी साहब की मुम्बई अंडरवर्ल्ड पर लिखी किताब ‘डोंगरी से दुबई तक’ माफिया के इतिहास को सिलसिलेवार तरीके से दर्ज करने की पहली कोशिश है। इसमें हाजी मस्तान करीम लाला, वरदराजन, छोटा राजन, अबू सलेम जैसे कुख्यात रिरोहबाज़ो की कहानी तो है ही, लेकिन इन सब के ऊपर एक ऐसे इंसान की कहानी है, जो अपने पिता के पुलिस विभाग में होने के बावजूद माफिया का बेताज बादशाह बना और पूरी मुम्बई पर राज़ किया और शायद आज भी कर रहा है।
जब भी किसी माफिया गैंग या डॉन की बात चलती है तो सबके ज़हन में जो सबसे पहला नाम आता है वो है मुम्बई अंडरवर्ल्ड का डॉन दाऊद इब्राहीम, लेकिन ये बात कम ही लोग जानते हैं की जब माफिया सरगनाओं ने मुम्बई(बम्बई) में अपनी ज़़डे जमाना शुरू कर दिया था तब तो दाऊद ने गुनाहों की इस सरजमीं पर अपना पैर भी नहीं रखा था…तो कौन था वो जिसने देश की आर्थिक नगरी को खौफ और आतंक की नगरी बनाने की शुरूआत की?
हम बात कर रहें हैं बम्बई के 1950-1960 के दशक की, पचास के दशक में भी लोग बम्बई की तरफ इस तरह भागते थे जैसे परवाने शमा की तरफ भागते हैं। और इन्हीं परवानों में से एक था हाजी मस्तान। सब जानते हैं कि हाजी मस्तान मुम्बई अंडरवर्ल्ड का पहला डॉन हैं। हाजी मस्तान मुंबई अंडरवर्ल्ड का सबसे ताकतवर डॉन था। लेकिन इस शक्तशाली डॉन ने अपनी पूरी जिंदगी में किसी की जान नहीं ली। किसी पर हमला नहीं किया। यहां तक कि एक भी गोली नहीं चलाई। बावजूद इसके हाजी मस्तान जुर्म की काली दुनिया में सबसे बड़ा नाम था।
मस्तान हैदर मिर्जा का जन्म 1 मार्च, 1926 को तमिलनाडु के कुड्डलूर से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित पनानकुलम गांव के एक किसान परिवार में हुआ था। मस्तान के पिता हैदर मिर्जा मेहनतकश लेकिन तंगहाल किसान थे। रोटी-रोजी का इंतजाम करने में नाकामयाब रहने पर अपने बेटे के साथ बम्बई आ गए थे। उन्होंने क्रॉफोर्ड मार्केट के करीब बंगालीपूरा में जैसे तैसे मैकेनिक की एक दुकान खोल ली जिसमें वे साइकिलें और मोटरसाइकिलें सुधारा करते थे।
हर बार भी जब भी वह अपनी बगल से गुजरती चमचमाती कार को सरपट भागते हुए देखता या मालाबार हिल के ठाठदार बंगलों के पास से गुजरता, तो उसका ध्यान अपने मैले-कुचैले हाथों पर जाता और वह सोचने लगता कि क्या कोई ऐसा भी दिन आएगा जब उसके पास भी ऐसी ही कारें और बंगले होंगे।



बॉयफ्रेंड्स के महंगे शौक पूरे करने के लिए 25 लाख रुपयों से भरी तिजोरी ही उड़ा डाली।


बॉयफ्रेंड्स के महंगे शौक पूरे करने के लिए 25 लाख रुपयों से भरी तिजोरी ही उड़ा डाली।
लखनऊ : गर्लफ्रेंड की खातिर चोरी व लूट के मामले तो अक्सर सामने आते हैं, मगर विभूति खंड इलाके में बीबीए की दो छात्राओं ने अपने बॉयफ्रेंड्स के महंगे शौक पूरे करने के लिए 25 लाख रुपयों से भरी तिजोरी ही उड़ा डाली।
सीआरपीएफ के कमांडेंट के घर में किराए पर रह रही दोनों छात्राओं ने मैकेनिक बुलाकर मकान मालिक के कमरों की डुप्लीकेट चाभियां बनवाईं और बॉयफ्रेंड की मदद से हाथ साफ कर दिया। बॉयफ्रेंड्स को महंगी बाइक गिफ्ट करने के साथ नगदी में बराबर का हिस्सा दिया।
अपने लिए स्कूटी व अन्य महंगे सामान खरीद डाले। पुलिस ने दोनों छात्राओं के साथ बीडीएस के छात्र को गिरफ्तार करके 16.73 लाख रुपये, दो बाइक, स्कूटी व अन्य सामान बरामद किए हैं, जबकि दूसरी छात्रा का दोस्त एमबीए का छात्र फरार है।
एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि सीआरपीएफ के कमांडेंट रमेश कुमार सिंह का घर विभूतिखंड के वास्तुखंड में है। उनके यहां किराएदार मीनाक्षी पंत छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले की रहने वाली है। वह बीबीडी से बीबीए की पढ़ाई कर रही थी। उसके साथ हरदोई की विष्णुपुरी कॉलोनी की अंशिका ठाकुर भी रहती थी, जो सेठ विशंभरनाथ कॉलेज में बीबीए तृतीय वर्ष की छात्रा है।
मीनाक्षी का बॉय फ्रेंड श्रीधर चटर्जी अलीगंज की विष्णुपुरी कॉलोनी में रहता है जो बीबीडी में बीडीएस का छात्र है। बलरामपुर जिले के जरवा थाने के पुरानी बाजार तुलसीपुर निवासी उसका दोस्त शांतनु सिंह भी एमबीए का छात्र होने के साथ मुंशी पुलिया पर किराए पर रहकर बैंकिंग की तैयारी कर रहा है। वह अंशिका का बॉयफ्रेंड है।
चारों के महंगे शौक थे। इनमें मीनाक्षी अपने पिता द्वारा हर महीने भेजे जा रहे 25 हजार रुपये में से अपने व बॉयफ्रैंड के कुछ शौक पूरे कर लेती थी। इसके बावजूद दोनों खुश नहीं थे।
ऐसे अंजाम दी वारदात
झारखंड में सीआरपीएफ के कमांडेंट रमेश कुमार सिंह का परिवार पिछले महीने लखनऊ आया था। दोनों छात्राओं का उनके घर आना-जाना लगा रहा। इस दौरान उन्होंने रमेश के घर में महंगी वस्तुओं के साथ तिजोरी देखी। अनुमान लगाया कि वह गहने-नगदी तिजोरी में बंद करके रखते हैं। कुछ दिनों बाद रमेश का परिवार सेकंड फ्लोर पर रहने चला गया।
फर्स्ट फ्लोर पर किराए पर रह रही मीनाक्षी व अंशिका से देखभाल की बात कही। इसके बाद दोनों छात्राओं ने मकान मालिक के घर में हाथ साफ करने की साजिश रचनी शुरू की। उन्होंने अपने बॉय फ्रेंड्स को भी मोटा माल मिलने का लालच देकर साजिश में शामिल किया।

Thursday, 23 June 2016

47वीं बार हुए परीक्षा में नाकाम, 10वीं पास करने के बाद ही शादी करने की क़सम खाने वाले शिवचरण

47वीं बार हुए परीक्षा में नाकाम, 10वीं पास करने के बाद ही शादी करने की क़सम खाने वाले शिवचरण


राजस्थान निवासी 82 वर्षीय शिव चरण ने कसम खायी हुई है कि जब तक वह 10 वीं कक्षा की परीक्षा पास नहीं कर लेंगे तब तक शादी नहीं करेंगे |
रविवार को  राजस्थान बोर्ड के 10 वीं कक्षा के परिणाम की घोषणा ने एक बार फिर उनकी उम्मीदों पर पानी फ़ेर दिया है इस बार वह 47 वीं बार परीक्षा पास करने में असफल रहे |
जयपुर से 140 किलोमीटर दूर बहरोड़ शहर में कोहरी गांव का निवासी शिवचरण को शिवोजिराम और पप्पू के नाम से भी जाना जाता है | शिव चरण एक मंदिर में रहता है,और  अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए राज्य सरकार की वृद्धावस्था पेंशन पर निर्भर है।
शिव चरण ने सोमवार को आईएएनएस को से बात करते हुए कहा कि जब तक मैं जिंदा हूँ तब तक परीक्षा देता रहूँगा और ये सिर्फ़ परीक्षा पास करना नहीं है बल्कि इससे मुझे शादी करने का अवसर भी मिलेगा |
आँख,कान जोड़ों के दर्द की समस्याओं के बावुजूद वह परीक्षा पास करने के जूनून को बरक़रार रखे हुए हैं | उन्होंने कहा कि 1995 में मैंने  गणित को छोड़कर सभी विषयों में परीक्षा पास कर ली थी | हालाँकि इस बार सभी विषयों में विफल रहा कुछ में शून्य भी मिला | चरण ने अपनी पहली बोर्ड की परीक्षा 1969 में दी थी